ऑस्ट्रेलियाई जेल से जल्द रिहा होगा विशाल जूड: विदेश मंत्री ने दिलाया भरोसा, खालिस्तानियों के विरोध पर हुई थी गिरफ्तारी

विदेश मंत्रालय ने बुधवार (जून 23, 2021) को हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को आश्वासन दिया कि राज्य का युवक विशाल जूड को बहुत जल्द ऑस्ट्रेलिया की जेल से रिहा किया जाएगा। बता दें कि विशाल को ऑस्ट्रेलियाई पुलिस ने कथित ‘हेट क्राइम’ मामले में गिरफ्तार किया है।

खबरों के मुताबिक, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने विदेश मंत्री एस. जयशंकर से बात कर ऑस्ट्रेलिया की जेल से विशाल जूड की रिहाई सुनिश्चित करने के लिए हस्तक्षेप करने की माँग की और मामले में विदेश मंत्रालय के तत्काल हस्तक्षेप की अपील की।

भारतीय छात्र विशाल जूड को ऑस्ट्रेलियाई पुलिस ने 16 अप्रैल को सिडनी में एक हमले में शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया था। ऑस्ट्रेलिया में भारतीय मूल के लोगों के अनुसार, विशाल जूड को इस साल अप्रैल में ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले खालिस्तानी चरमपंथियों और भारत विरोधी प्रोपेगेंडिस्टों से भिड़ने के लिए गिरफ्तार किया गया था। उसकी गिरफ्तारी को दो महीने हो चुके हैं और ऑस्ट्रेलियाई अधिकारियों ने न तो उसे जमानत पर रिहा किया है और न ही भारतीय अधिकारियों को उससे बात करने की अनुमति दी है।

उनकी गिरफ्तारी के बाद पिछले कुछ दिनों में ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में विशाल जूड के समर्थन में सैकड़ों समर्थक जमा हो गए हैं। करनाल और हरियाणा के जिलों में उनकी रिहाई को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।

हरियाणा के मुख्यमंत्री ने मंत्री जयशंकर को विशाल जूड के समर्थन में भारत और ऑस्ट्रेलिया में हो रहे प्रदर्शनों से अवगत कराया। मुख्यमंत्री ने कथित तौर पर यह भी बताया कि कैसे विशाल देश विरोधी ताकतों के खिलाफ खड़े हुए थे, जिन्होंने बाद में उन्हें पीटा और झूठे मामले में फँसाया।

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने राष्ट्रवादी भारतीय विशाल जूड के समर्थन में ट्वीट किया, “सिडनी, ऑस्ट्रेलिया में तिरंगे के सम्मान के लिए, हरियाणा के युवा विशाल जूड ने देश विरोधी ताकतों के साथ मजबूती से लड़ाई लड़ी और तिरंगे का अपमान नहीं होने दिया।” सिडनी में खालिस्तानी चरमपंथियों पर हमला करने के आरोप में वह फिलहाल ऑस्ट्रेलियाई पुलिस की हिरासत में हैं।

सीएम कार्यालय से जारी एक बयान में कहा गया है कि 24 वर्षीय जूड निर्दोष थे और उन्हें ‘राष्ट्र विरोधी ताकतों की साजिश’ के बाद जेल में डाल दिया गया था, क्योंकि उन्होंने तिरंगे के लिए भारत विरोधी तत्वों का विरोध किया था।

कौन हैं विशाल जूड?

ऑस्ट्रेलिया में पढ़ाई कर रहे हरियाणा के 24 वर्षीय विशाल जूड को 16 अप्रैल को सिडनी में तीन आपराधिक घटनाओं में कथित रूप से शामिल होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। भारतीय राष्ट्रवादियों के एक समूह की ऑस्ट्रेलिया में खालिस्तानियों के साथ झड़प के बाद ऑस्ट्रेलियाई पुलिस अधिकारियों ने विशाल जूड को उठा लिया। विशाल जूड पिछले दो महीने से जेल में बंद हैं। पुलिस ने संपत्ति को नुकसान पहुँचाने और मारपीट के आरोप में जूड को गिरफ्तार किया है।

कथित तौर पर, विशाल पर तीन अपराधों का आरोप लगाया गया है, जो कथित तौर पर 16 सितंबर 2020 और 14 तथा 28 फरवरी 2021 को हुए थे। दिलचस्प बात यह है कि खालिस्तानी कार्यकर्ताओं को तीनों मामलों में ‘पीड़ित’ के रूप में नामित किया गया है। इन खालिस्तानी तत्वों को भारतीय मूल का माना जाता है। हालाँकि, वे खुद को भारतीय नहीं मानते हैं, लेकिन अपनी धार्मिक पहचान के साथ पहचाने जाने को प्राथमिकता देते हैं और खालिस्तान के विचार का समर्थन करते हैं।

जब से सिडनी पुलिस ने खालिस्तानियों द्वारा पेश किए गए कथित वीडियो के साथ संदिग्ध आरोपों में विशाल को गिरफ्तार किया है, भारतीय प्रवासी विशाल जूड की रिहाई की माँग कर रहे हैं। उन्होंने सिडनी पुलिस अधिकारियों से संपर्क किया है, लेकिन इसका कोई नतीजा नहीं निकल सका।

इस बीच, विशाल के वकील ने कानूनी कार्रवाई की धमकी देते हुए इसे जेल अधिकारियों के सामने उठाया, जिसके कारण पुलिस ने विशाल के खिलाफ और आपराधिक आरोप लगाए और मामले को एक उच्च न्यायालय में स्थानांतरित कर दिया, जिससे विशाल और भारतीय समुदाय को और परेशानी हुई।

विशाल जूड के दोस्तों और परिवार ने आरोप लगाया है कि ऑस्ट्रेलियाई पुलिस ने भारत के लिए बार-बार खड़े होने और ऑस्ट्रेलियाई धरती से संचालित खालिस्तानी तत्वों को चुनौती देने के लिए जूड को निशाना बनाया है। विशाल जूड के दोस्तों और परिवार ने कहा है कि पुलिस ने खालिस्तानी समूहों के दबाव में उसे फँसाने के लिए कार्रवाई की है।

बाद में, यह सामने आया कि विशाल जूड डायबिटीज मरीज है और जेल में उसे दवा नहीं मिल रही थी। कई दिनों तक, उनके दोस्तों और परिवार को उनकी मेडिकल कंडीशन के बावजूद मिलने से मना कर दिया गया। ऑपइंडिया से बात करने वाले उनके दोस्तों ने कहा है कि विशाल का एकमात्र दोष यह था कि उन्होंने भारत के समर्थन में एक तिरंगा रैली निकालने की कोशिश की। ऐसा लगता है कि ऑस्ट्रेलिया में कुछ खालिस्तानी समूहों को इससे परेशानी हो गई।

विशाल जूड के पिता उन तक कांसुलर एक्सेस की कोशिश कर रहे हैं। हालाँकि, ऑस्ट्रेलिया में भारतीय उच्चायोग ने अभी तक भारतीय डायस्पोरा के अनुरोधों को स्वीकार नहीं किया था। ऑपइंडिया से बात करते हुए, भारतीय प्रवासी के सदस्यों में से एक ने भारतीयों के हितों के लिए खड़े होने के लिए भारतीय उच्चायोग की अनिच्छा पर निराशा व्यक्त की थी। उन्होंने दावा किया कि अधिकारी विशाल जूड को रिहा करने या कांसुलर एक्सेस की माँग में कोई दिलचस्पी दिखा रहे हैं।

Leave a Comment