कन्नौज के मंदिर में घुसकर दिलशाद ने की तोड़फोड़, उमर ने बताया- ये सब किसी ने करने के लिए कहा था

उत्तर प्रदेश के कन्नौज के छिबराऊ में विजय नाथ मंदिर में तोड़फोड़ की घटना के बाद हालात तनावपूर्ण हैं। वहाँ मंगलवार (जून 22, 2021) की सुबह दूसरे समुदाय के व्यक्तिों ने उत्तेजक नारेबाजी करते हुए प्रवेश किया और देवी देवताओं की मूर्ति पर हमला बोल दिया। घटना की जानकारी होने पर हिंदू संगठन पहुँचे और मंदिर की हालत देख कार्रवाई की माँग की गई।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, घटना छिबरामऊ के प्रमुख विजयपाल चौराहे पर स्थित विजय नाथ मंदिर की है। जहाँ सुबह लगभग 10 बजे दिलशाद नाम का व्यक्ति कुछ लोगों के साथ मंदिर में घुसा और अचानक उसने मंदिर में तोड़फोड़ करना शुरू कर दिया। इस दौरान मंदिर के पुजारी रामकिशोर मिश्रा की नजर उस पर पड़ी। उन्होंने दिलशाद को रोकने का प्रयास किया लेकिन दिलशाद पुजारी से ही भिड़ गया।

पुजारी ने इसके बाद जोर-जोर से हल्ला मचाया और लोगों ने इकट्ठा होकर दिलशाद को पकड़ा। साथ ही उसकी हरकत जानकर उसे पीटा भी। थोड़ी देर में घटना की सूचना पाते ही पुलिस भी पहुँच गई। पुलिस ने दिलशाद को हिरासत में लिया और इलाके में पुलिस बल की तैनाती की गई।

अभी तक इस मामले में तीन लोग हिरासत में लिए गए हैं। हिंदू संगठन इस घटना की जानकारी होने पर प्रदर्शन कर रहे हैं। पुलिस मामले को शांत कराकर कार्रवाई करने का आश्वासन दे रही है।  पीपल चौराहे इलाके में एक मस्जिद की सुरक्षा भी बढ़ाई गई है।

मीडिया को एसपी अरविंद कुमार ने बताया कि मामले की जाँच की जा रही है। 3 लोगों को हिरासत में लिया गया है। आरोपितो पर एनएसए भी लगाया जाएगा। अभी मौके पर पुलिस बल तैनात है। जानकारी के मुताबिक आरोपित दिलशाद छिबरामऊ का ही रहने वाला है। पुलिस उसे पकड़कर जानने का प्रयास कर रही है कि उसने ऐसा क्यों किया।

बता दें कि विजय नाथ मंदिर में शिवलिंग, नंदी और नागराज विराजमान है। इनके अलावा मंदिर में राम दरबार, हनुमानजी सहित देवी प्रतिमाएँ भी स्थापित हैं और साईं प्रतिमा भी लगी है। सामने आई तस्वीरों में देख सकते हैं कि नंदी की ही मूर्ति जमीन पर गिरी हुई है। वहीं अन्य चीजें भी अस्त व्यस्त हैं।

मंगलवार सुबह घटित इस घटना में कहा जा रहा है कि दिलशाद के साथ 5-6 साथी और नजर आए थे लेकिन वह भीड़ को देखकर भाग निकले। भीड़ ने इनका पीछा किया और इनमें से एक को पकड़कर पुलिस को सौंपा। इसकी पहचान उमर फारूख उर्फ बंटी के तौर पर हुई है। वह बिरतिया मोहल्ले का निवासी है। अभी तक पुलिस की पूछताछ में आरोपित ने बताया है कि मूर्ति खंडित करने के लिए उसे किसी ने कहा था। लेकिन किसने? ये जवाब अभी तक नहीं मिला है। फिलहाल पुलिस उसे थाने ले जाकर पूछताछ कर रही है।

Leave a Comment