किसान रैली में हिंसा की पाकिस्तानी साजिश, तीन राज्य देंगे पुलिस सुरक्षा

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

गणतंत्र दिवस पर किसानों को ट्रैक्टर रैली के लिए दिल्ली पुलिस ने रविवार को तीन रूटों की आधिकारिक मंजूरी दे दी। राजपथ की मुख्य परेड खत्म होने के बाद टीकरी, सिंघु और गाजीपुर सीमा से ट्रैक्टरों को दिल्ली में प्रवेश दिया जाएगा।

पाकिस्तान में 6 दिन में बने 308 ट्विटर हैंडल के आधार पर पुलिस का दावा
इस बीच पुलिस का दावा है कि रैली में गड़बड़ी फैलाने के लिए पाकिस्तान साजिश कर रहा है। इसके लिए पाकिस्तान में 13 से 18 जनवरी के बीच 308 ट्विटर हैंडल बने हैं।दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर इंटेलिजेंस दीपेंद्र पाठक ने रविवार को किसानों के साथ रैली का रूट मैप तय किया। उन्होंने कहा रैली का शांतिपूर्ण संचालन बड़ी चुनौती है। इसके लिए दिल्ली के साथ यूपी और हरियाणा पुलिस पुख्ता सुरक्षा इंतजाम करेगी, किसान संगठनों को भी सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

टीकरी व सिंघु सीमा से 62 किलोमीटर के रूट से किसान दिल्ली में 10 किलोमीटर दाखिल होंगे। इसके बाद संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, बवाना, कंझावला, कुतुबगढ़ होते हुए औचंदी सीमा पहुंचेंगे, फिर हरियाणा में दाखिल होंगे और वापस सिंघु सीमा जाएंगे।

ट्रैक्टर मार्च के ये तीन मार्ग
टीकरी सीमा से किसान नांगलोई जाएंगे। वहां से बपरोला होते हुए नजफगढ़ रोड और झरोदा सीमा से रोहतक बाइपास (बहादुरगढ़) पहुंचेंगे। वहां से असोदा के रास्ते ट्रैक्टर वापसी टीकरी पहुंचेंगे। गाजीपुर सीमा से रैली 46 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। पहले अप्सरा सीमा, फिर हापुड़ रोड होते हुए आईएमएस कॉलेज में लाल कुआं होते हुए वापस गाजीपुर सीमा पर पहुंचेंगे। वहां चिल्ला सीमा पर बैठे किसान ट्रैक्टर लेकर गाजीपुर जाएंगे और रैली में शामिल होंगे।

बिना ट्राली के ही ट्रैक्टर लाएं किसान
किसान नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि ‘पुलिस से रैली की आधिकारिक मंजूरी मिल गई है। हम पूरी तरह शांतिपूर्ण रैली निकालेंगे। मैं सभी किसान भाइयों से अनुरोध करता हूं कि रैली के लिए बिना ट्रॉली के ट्रैक्टर ही दिल्ली के अंदर लेकर चलें। 

मुंबई में आज रैली, हजारों किसान पहुंचे 
महाराष्ट्र में कृषि कानून के खिलाफ सोमवार को रैली आयोजित की गई है। मुंबई में रैली में हिस्सा लेने के लिए अलग-अलग शहरों से हजारों किसान रविवार को ही पहुंच गए। ऑल इंडिया किसान सभा की महाराष्ट्र इकाई ने बताया, सिर्फ नासिक से 15 हजार किसान मुंबई पहुंचे हैं।

कोई अदृश्य ताकत है, जो नहीं चाहती हल: तोमर
कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने एक साक्षात्कार में कहा कि यह दुखद है कि किसान कृषि कानूनों को रद्द कराने पर अड़े हैं और इनके फायदों पर चर्चा भी नहीं करते। कोई अदृश्य ताकत है जो चाहती है कि ये मसला हल न हो क्योंकि बातचीत के अगले ही दिन किसानों के सुर बदल जाते हैं। हालांकि उन्होंने इन ताकतों के बारे में पूछे जाने पर कुछ नहीं बताया। 

गणतंत्र दिवस पर किसानों को ट्रैक्टर रैली के लिए दिल्ली पुलिस ने रविवार को तीन रूटों की आधिकारिक मंजूरी दे दी। राजपथ की मुख्य परेड खत्म होने के बाद टीकरी, सिंघु और गाजीपुर सीमा से ट्रैक्टरों को दिल्ली में प्रवेश दिया जाएगा।

पाकिस्तान में 6 दिन में बने 308 ट्विटर हैंडल के आधार पर पुलिस का दावा

इस बीच पुलिस का दावा है कि रैली में गड़बड़ी फैलाने के लिए पाकिस्तान साजिश कर रहा है। इसके लिए पाकिस्तान में 13 से 18 जनवरी के बीच 308 ट्विटर हैंडल बने हैं।दिल्ली पुलिस के स्पेशल कमिश्नर इंटेलिजेंस दीपेंद्र पाठक ने रविवार को किसानों के साथ रैली का रूट मैप तय किया। उन्होंने कहा रैली का शांतिपूर्ण संचालन बड़ी चुनौती है। इसके लिए दिल्ली के साथ यूपी और हरियाणा पुलिस पुख्ता सुरक्षा इंतजाम करेगी, किसान संगठनों को भी सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

टीकरी व सिंघु सीमा से 62 किलोमीटर के रूट से किसान दिल्ली में 10 किलोमीटर दाखिल होंगे। इसके बाद संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, बवाना, कंझावला, कुतुबगढ़ होते हुए औचंदी सीमा पहुंचेंगे, फिर हरियाणा में दाखिल होंगे और वापस सिंघु सीमा जाएंगे।

ट्रैक्टर मार्च के ये तीन मार्ग

टीकरी सीमा से किसान नांगलोई जाएंगे। वहां से बपरोला होते हुए नजफगढ़ रोड और झरोदा सीमा से रोहतक बाइपास (बहादुरगढ़) पहुंचेंगे। वहां से असोदा के रास्ते ट्रैक्टर वापसी टीकरी पहुंचेंगे। गाजीपुर सीमा से रैली 46 किलोमीटर की दूरी तय करेगी। पहले अप्सरा सीमा, फिर हापुड़ रोड होते हुए आईएमएस कॉलेज में लाल कुआं होते हुए वापस गाजीपुर सीमा पर पहुंचेंगे। वहां चिल्ला सीमा पर बैठे किसान ट्रैक्टर लेकर गाजीपुर जाएंगे और रैली में शामिल होंगे।

बिना ट्राली के ही ट्रैक्टर लाएं किसान

किसान नेता योगेंद्र यादव ने कहा कि ‘पुलिस से रैली की आधिकारिक मंजूरी मिल गई है। हम पूरी तरह शांतिपूर्ण रैली निकालेंगे। मैं सभी किसान भाइयों से अनुरोध करता हूं कि रैली के लिए बिना ट्रॉली के ट्रैक्टर ही दिल्ली के अंदर लेकर चलें। 

मुंबई में आज रैली, हजारों किसान पहुंचे 

महाराष्ट्र में कृषि कानून के खिलाफ सोमवार को रैली आयोजित की गई है। मुंबई में रैली में हिस्सा लेने के लिए अलग-अलग शहरों से हजारों किसान रविवार को ही पहुंच गए। ऑल इंडिया किसान सभा की महाराष्ट्र इकाई ने बताया, सिर्फ नासिक से 15 हजार किसान मुंबई पहुंचे हैं।

कोई अदृश्य ताकत है, जो नहीं चाहती हल: तोमर

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने एक साक्षात्कार में कहा कि यह दुखद है कि किसान कृषि कानूनों को रद्द कराने पर अड़े हैं और इनके फायदों पर चर्चा भी नहीं करते। कोई अदृश्य ताकत है जो चाहती है कि ये मसला हल न हो क्योंकि बातचीत के अगले ही दिन किसानों के सुर बदल जाते हैं। हालांकि उन्होंने इन ताकतों के बारे में पूछे जाने पर कुछ नहीं बताया। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *