किसान सावधान: ऑनलाइन साइट बंद, फिर भी पंप योजना के नाम पर दे रहे प्रलोभन

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खरगोन3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • बदमाशों ने दो किसानों को फोन पर 5600 रुपए जमा करने को कहा

प्रधानमंत्री कुसुम योजना के तहत 90 प्रतिशत सब्सिडी पर सोलर पंप देने की योजना है। फिलहाल इसकी ऑनलाइन साइट बंद है। इसके बाद भी क्षेत्र के किसानों को कुछ लोग फोन कर पंजीयन के लिए रुपए मांग रहे हैं। इसकी पूरी जानकारी लेने पर यह कॉल्स फर्जी होने की बात सामने आ रही है। पंजीयन के काम से जुड़े हुए किसान ने अपने अन्य साथी किसानों को ठगे जाने से बचा लिया लेकिन जिले के 5 से ज्यादा किसान इस ठगी का शिकार हो चुके हैं। जानकारी के अनुसार इस योजना में सौर ऊर्जा उपकरण स्थापित करने के लिए किसानों को केवल 10 प्रतिशत राशि का भुगतान करना होता है। सरकार किसानों को सब्सिडी के रूप में सोलर पंप की कुल लागत की 90 प्रतिशत रकम देती है। अफसर बोले- विभाग से संपर्क कर ही किसान राशि जमा करें।

जानिए… दोनों किसानों की कहानी

5600 जमा करो, पंप लगाने आएगा बंदा
ओझरा के किसान अशोक यादव ने बताया सोशल मीडिया पर सोलर पंप योजना की लिंक देखी। क्लिक करने पर जानकारी मांगी। कुछ समय बाद विजय नामक युवक ने फोन कर बताया प्रधानमंत्री कुसुम योजना का लाभ लेने के लिए पंजीयन कराना होगा। 90 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी। 5 हार्सपॉवर का पंप लेने पर आपको मात्र 51000 रुपए जमा करना होंगे। फिलहाल पंजीयन के लिए 5600 रुपए जमा करवा दो। आपके यहां पंप लगाने के लिए हमारा बंदा भी आएगा। शेष राशि का भुगतान भी करना है।
बधाई हो आपका पंप सेंक्शन हो गया है
कसरावद के किशोर पाटीदार ने बताया कि मेरे मोबाइल नंबर पर कुसुम योजना में पंजीयन के लिए फोन आया। किसी विनय कुमार ने बताया कुसुम योजना में 5 हार्सपॉवर का सोलर पंप सेंक्शन हो गया है। एसबीआई के खाता क्रमांक 38771498960 में 5600 रुपए जमा करवा दें। 90 प्रतिशत सब्सिडी मिलेगी। हमारा बंदा आपके यहां पंप लगाने के लिए आएगा। शेष राशि उसको आपको देना होगा।

जानकारी ली तो पता चला साइट बंद है
अशोक यादव व किशोर पाटीदार ने बताया उन्हें फोन काॅल पर मिली जानकारी पर शंका हुई। सोलर ऊर्जा में पंजीयन करने वाले ग्राम कवड़ी निवासी मित्र सुरेश यादव से संपर्क किया। यादव ने बताया भोपाल से जानकारी जुटाई तो यह फोन कॉल फर्जी होना सामने आया, क्योंकि इस योजना की साइट पर फिलहाल कोई अपलोडिंग नहीं है। बैंक अकाउंट नंबर व आईएफएससी कोड की जांच करवाई तो यह भी फर्जी निकला। भोपाल से इस तरह के फोन कॉल से सतर्क रहने की बात भी कही।

^जिले में 6 किसानों के इस तरह ठगी के शिकार होने की सूचना मिली है। इस योजना की ऑनलाइन साइट पिछले दो माह से बंद है। सोशल मीडिया पर मिलने वाली लिंक पर विश्वास कर पंजीयन व भुगतान करने से पहले विभाग से संपर्क करना चाहिए। राजेंद्र गोयल, जिला अक्षय ऊर्जा अधिकारी

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *