‘कोई पूज्य फातिमा बीबी को ऐसा कहे तो तुम्हें कैसा लगेगा’: माँ भवानी के अपमान पर बोला 14 साल का बालवीर, सिर धड़ से हुआ अलग

इस्लाम में ‘ईशनिंदा (Blasphemy)’ की सज़ा काफी सख्त है। शरीयत कानून की मानें तो मौत से कम कुछ भी मंजूर नहीं है। हाल ही में पाकिस्तान में दो भाइयों पर मस्जिद के अपमान का आरोप लगा और सैकड़ों की भीड़ ने थाने में घुस कर उन्हें मार डालने की कोशिश की। अगर आपको लगता है कि ये सब नया है, तो आप गलत हैं। सैकड़ों वर्ष पूर्व से ही इस्लाम में ऐसा ही होता आ रहा है। ऐसा ही एक नाम है ‘वीर’ हकीकत राय का।

हकीकत राय का जन्म एक खत्री हिन्दू परिवार में हुआ था। उनके बारे में हम जानेंगे, लेकिन उससे पहले अत्याचारी मुगलों की बात। जब हकीकत राय का जन्म हुआ था, तब भारत में मुग़ल शासन भी अपने अंतिम दिन गिन रहा था और साम्राज्य काफी सीमित हो गया था। सितम्बर 1719 से अप्रैल 1748 तक दिल्ली में मुहम्मदशाह ‘रंगीला’ का शासन था। 13वाँ मुग़ल बादशाह मुहम्मदशाह, बहादुरशाह जफ़र I का पोता और खुजिस्ता अख्तर का बेटा था।

मात्र 17 वर्ष की उम्र में उसने तब प्रभावशाली मुग़ल सरदारों सैयद भाइयों की मदद से सत्ता पा ली थी। बाद में उसने सैयद भाइयों में से एक का कत्ल करवा दिया तो एक को ज़हर देकर मरवा दिया। हालाँकि, वामपंथी उसे कला, संगीत, प्रशासनिक विकास और संस्कृति का वाहक मानते हैं। उसी के काल में पर्सिया का नादिर शाह दिल्ली आया और सब कुछ लूट कर ले गया। साथ ही उसने भारत की राजधानी में लाशों का अंबार भी लगा दिया।

हकीकत राय का पालन-पोषण भी कुछ इसी अवधि में हो रहा था। भगवद्गीता सीखते हुए बड़े हो रहे थे। परिवार अमीर था। पूरी खत्री खानदान के हकीकत राय को किसी चीज की कमी न थी। उस दौरान फ़ारसी भाषा का बोलबाला था। संस्कृत से लेकर अंग्रेजी तक, भाषा वो लोकप्रिय नहीं होती है जो सबसे ज्यादा बोली जाती है, बल्कि उस भाषा की माँग सबसे ज्यादा होती है जिनका इस्तेमाल प्रशासनिक कार्यों में होता हो।

सीधे शब्दों में कहें तो हर माँ-बाप अपनी संतान को उस भाषा का ज्ञान प्राथमिकता से देना चाहता है, जिसका इस्तेमाल वहाँ के प्रबुद्धजन करते हों। इसी तरह हकीकत राय को भी फ़ारसी पढ़ने के लिए एक मौलवी के पास भेजा जाता था। मुग़ल काल में अदालतों से लेकर दरबार तक की कार्यवाहियाँ फ़ारसी में ही हुआ करती थीं। जिस सियालकोट में हकीकत राय का जन्म व पालन-पोषण हुआ, वो आज पाकिस्तान के पंजाब प्रान्त में स्थित है।

पिता भागमल ने जिस मदरसे में हकीकत राय को फ़ारसी पढ़ने के लिए भेजा था, जाहिर है कि वहाँ अधिकतर छात्र मुस्लिम थे। उसी मदरसे में एक ऐसी छोटी सी घटना हुई, जिसके कारण हकीकत राय को अपनी जान गँवानी पड़ी। पिता की इच्छा थी कि फ़ारसी पढ़ कर उनका बेटा एक बड़ा सरकारी अधिकारी बनेगा। बालक कुशाग्र बुद्धि था और उसने शिक्षक का प्रेम कुछ ही समय में प्राप्त कर लिया। वो मन लगा कर पढ़ता।

लेकिन, मदरसे में पढ़ने वाले अन्य मुस्लिम छात्रों को ये बात खटकती थी। वो किसी न किसी प्रकार से हकीकत राय को प्रताड़ित करने लगे थे और पढ़ाई से ध्यान भटकाने के लिए उन्हें परेशान किया करते थे। मदरसे के कुछ बच्चे चोरी और जुआ में मशगूल थे, जिनकी शिकायत हकीकत ने शिक्षकों से कर दी थी। इसके बाद वो छात्र और भी चिढ़ गए। हकीकत राय की उम्र तब मात्र 13-14 वर्ष ही थी। उनके विवाह की बात भी चल रही थी।

लाहौर के ही एक बड़े घराने में उनका रिश्ता तय होने वाला था। एक दिन जब छात्रों के झगड़े में हकीकत राय के कपड़े फट गए तो पिता भागमल शिकायत लेकर मदरसा पहुँचे। मौलवी ने दोषी छात्रों को सज़ा दी। इसके बाद से ही उन लोगों ने मन बना लिया था कि वो किसी तरह से इसका बदला लेंगे। हकीकत राय का विवाह तय हो चुका था। मौलवी को भी निमंत्रण भेजा गया था। लेकिन, उसी बीच ईद का त्यौहार भी आ गया।

‘सुरुचि प्रकाशन’ द्वारा संकलित हकीकत राय की जीवनी के अनुसार, ईद के दिन हकीकत राय ने एक सोने का सिक्का देकर मौलवी साहब को त्यौहार की बधाई दी। इसी दौरान अन्य छात्र उससे कबड्डी खेलने की जिद करने लगे, लेकिन माँ भवानी की सौगंध खाकर हकीकत राय ने कहा कि उनका खेलने का मन नहीं है। फिर क्या था, मुस्लिम छात्रों ने माँ भवानी को ‘पत्थर का टुकड़ा’ बताते हुए उनकी प्रतिमा को सड़क पर फेंकने और लात से मारने की धमकी दी।

Gateway To Sikhism‘ और सुरुचि प्रकाशन में वर्णित हकीकत राय की जीवनी के अनुसार, उन्होंने माँ भवानी का अपमान करते मुस्लिम छात्रों से बस इतना ही पूछा कि अगर कोई उनकी पूज्य फातिमा बीबी के लिए कोई ऐसा कहेगा तो उन्हें कैसा महसूस होगा? इसके बाद उन छात्रों ने भीड़ जुटा दी और मौलवी से शिकायत की। फिर हकीकत राय को ‘काफिर’ बताते हुए काजी से उनकी शिकायत की गई।

गुरु से भगवद्गीता पढ़ते वीर हकीकत राय

हकीकत राय ने माफ़ी माँगने से इनकार कर दिया क्योंकि उन्होंने कोई अपशब्द नहीं कहे थे। काजी ने हकीकत राय और उनके पिता के सामने शर्त रखी कि हकीकत को इस्लाम कबूल करना पड़ेगा, तभी उसकी जान बच सकती है। लेकिन, हकीकत राय ने इनकार कर दिया। हकीकत राय को रस्सी से बाँध कर लाहौर के हाकिम के पास ले जाया गया। भागमल के नाम मिन्नतें करने के बावजूद उसने काजी के फैसले को पलटने से इनकार कर दिया।

भागमल अपने बेटे की जान की भीख माँगते रहे, उधर हाकिम ने जल्लाद को आवाज़ दी। उसे आदेश दिया गया कि वो एक ही वार में हकीकत राय का सिर धड़ से अलग कर दे और उसने उपस्थित सभी लोगों के सामने ही ऐसा ही किया। हकीकत राय ने गुरु तेग बहादुर और संभाजी जैसे वीरों के रास्ते पर चलते हुए जान दे दी, लेकिन इस्लाम कबूल नहीं किया। ‘ईशनिंदा’ का झूठा आरोप लगा और उन्हें मार डाला गया।

सिर कलम किए जाने से पहले हकीकत राय ने काजी से पूछा था कि क्या मुस्लिमों को मौत नहीं आती? अगर आती है तो मैं अपना धर्म क्यों छोड़ूँ? हकीकत राय के बलिदान पर सिख सम्राट रणजीत सिंह को भी नाज़ था। 18वीं सदी में इस्लामी शासकों और अंग्रेजों को नाकों चने चबवाने वाले ‘शेर-ए-पंजाब’ रणजीत सिंह अक्सर उनके बलिदान को याद करते थे। सिख और हिन्दू, दोनों ही वीर हकीकत राय को याद करते हैं। पंजाब के गुरदासपुर में उनकी समाधि भी है।

Leave a Comment