जब कॉन्ग्रेस के नेतृत्व वाली UPA सरकार ने प्रणब मुखर्जी, अमर सिंह समेत अन्य नेताओं की बेशर्मी से की जासूसी: RTI से खुला राज

वामपंथी पोर्टल द वायर ने रविवार (जुलाई 18, 2021) को 40 भारतीय पत्रकारों की एक सूची शेयर की, जिसमें दावा किया गया था कि पेगासस (Pegasus) नामक इजरायली स्पाइवेयर की मदद से उनकी जासूसी की जा रही थी।

भारत सरकार ने अपनी प्रतिक्रिया में रिपोर्ट को यह कहते हुए खारिज कर दिया कि रिपोर्ट में लगाए गए आरोप अनुमानों और अपुष्ट सिद्धांतों पर आधारित हैं। इससे पहले आज, पेगासस स्पाइवेयर के मालिक एनएसओ ग्रुप ने कहा कि वह उनके खिलाफ अपमानजनक आरोप लगाने के लिए द वायर के खिलाफ मानहानि मुक़दमा दायर करने पर विचार कर रहे हैं।

वामपंथी ऑनलाइन पोर्टल लंबे समय से मोदी सरकार के खिलाफ पूर्वाग्रही सामग्री प्रकाशित करने के लिए जाना जाता है। जासूसी की इस फर्जी आरोपों के बीच वह समय एक बार फिर से सुर्खियों में है, जब केंद्र में कॉन्ग्रेस की सरकार हुआ करती थी और वह राजनेताओं पर निगरानी रखा करती थी, जिसमें उनके अपने नेता भी शामिल होते थे।

UPA-II ने 9,000 से अधिक फोन और 500 ईमेल अकाउंट की निगरानी की

2013 में दायर एक आरटीआई के जवाब से पता चला कि केंद्र की यूपीए सरकार 9,000 फोन और 500 ईमेल अकाउंट्स की बारीकी से निगरानी कर रही थी। न्यूजरूम पोस्ट में प्रकाशित एक रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई है। यह जवाब प्रोसेनजीत मंडल नाम के एक आरटीआई के जवाब में था।

आरटीआई के जवाब में कहा गया है, “केंद्र सरकार द्वारा प्रति माह औसतन 7,500 से 9,000 के बीच टेलीफोन इंटरसेप्शन और ईमेल इंटरसेप्शन के लिए 300 से 500 ऑर्डर जारी किए गए।”

यूपीए सरकार में हर महीने 10 या 20 नहीं बल्कि 9000 फोन टैप किए जाते थे। इसमें न केवल प्रतिष्ठित व्यक्ति बल्कि उनके अपने नेता भी शामिल थे, जिनमें कॉन्ग्रेस के दिग्गज नेता प्रणब मुखर्जी भी शामिल थे।

कॉन्ग्रेस ने तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी समेत अपने नेताओं की भी जासूसी की

जनवरी 2006 में, समाजवादी पार्टी के तत्कालीन महासचिव, तेजतर्रार राजनेता अमर सिंह ने आरोप लगाया कि 2004 में सत्ता में आई मनमोहन सिंह सरकार ने उनका फोन टैप किया था। सिंह द्वारा लगाए गए आरोपों के बाद, अन्य राजनेताओं जैसे सीताराम येचुरी, जयललिता, सीबी नायडू आदि ने भी यूपीए सरकार के खिलाफ इसी तरह के आरोप लगाए।

हालाँकि, इस घटना की सबसे दिलचस्प बात पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की ओर से दी गई प्रतिक्रिया है। उन्होंने कहा कि फोन टैपिंग उनकी सरकार ने नहीं बल्कि एक निजी एजेंसी ने की थी। बाद में इस मामले में भूपिंदर सिंह नाम के एक शख्स को गिरफ्तार भी किया गया था।

अक्टूबर 2009 में, तत्कालीन रेल मंत्री ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल की सीपीएम सरकार पर जासूसी करने का आरोप लगाया। बनर्जी के आरोपों ने एक बार फिर केंद्र द्वारा अपने विरोधियों और पार्टी के अन्य नेताओं के खिलाफ निगरानी के उपयोग के आसपास की बहस को फिर से जगा दिया। तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने तब कहा था कि सरकार जासूसी के आरोपों पर सफाई देगी। हालाँकि, प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मामले में जेपीसी की माँग को खारिज कर दिया।

एक साल बाद, दिसंबर 2010 में, पीएम सिंह ने कॉरपोरेट दिग्गजों के फोन टैप करने के लिए अपनी सरकार के कदम का बचाव किया। उन्होंने फोन टैपिंग को सही ठहराने के कारणों के रूप में राष्ट्रीय सुरक्षा, कर चोरी और मनी लॉन्ड्रिंग को रोकने के आधार का हवाला दिया। अगले दिन, उन्होंने कथित तौर पर अपने कैबिनेट सचिव से फोन टैपिंग मामले को देखने और इस तरह के लीक को रोकने के लिए कानूनी ढाँचे को मजबूत करने के लिए कहा।

जून 2011 में, तत्कालीन वित्त मंत्री प्रणब मुखर्जी ने प्रधानमंत्री को एक पत्र लिखकर उनसे अपने कार्यालय की गड़बड़ी की गुप्त जाँच कराने के लिए कहा। रिपोर्टों के अनुसार, मुखर्जी को संदेह था कि उनके कार्यालय को खराब करने के लिए उनका एक कैबिनेट सहयोगी जिम्मेदार था।

इससे पहले पिछले महीने राजस्थान के एक कॉन्ग्रेस विधायक ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत पर उनका फोन टैप करने का आरोप लगाया था। राजस्थान के दौसा जिले के चाकसू से कॉन्ग्रेस विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ने कहा कि ‘कई अधिकारियों’ ने उन्हें बताया कि विधायकों के फोन टैप किए जा रहे हैं। सोलंकी ने तब आरोप लगाया था कि विधायकों को फँसाने के भी प्रयास चल रहे हैं।

Updated: October 2, 2021 — 12:59 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *