जिनके कारण वर्ल्ड कप में पहली बार भारत ने वेस्टइंडीज को दी थी मात, क्रिकेटर यशपाल शर्मा का हार्ट अटैक से निधन

पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा का का मंगलवार (13 जुलाई, 2021) को हार्ट अटैक की वजह से निधन हो गया। वो 66 वर्ष के थे। वो 1983 वर्ल्ड कप विजेता टीम के सदस्य थे। पिछले कुछ वर्षों से वो बतौर क्रिकेट एक्सपर्ट टीवी पर दिखते थे। 70 और 80 के दशक में उन्होंने क्रिकेट की दुनिया में नाम कमाया। 11 अगस्त, 1954 को पंजाब के लुधियाना में जन्मे यशपाल शर्मा मिडल ऑर्डर में खेलते थे।

1983 के वर्ल्ड कप टूर्नामेंट में वो भारत की तरफ से दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले क्रिकेटर थे। मैनचेस्टर में 9 जून, 1983 को वेस्टइंडीज के साथ हुए मैच में उन्होंने 120 गेंदों पर 89 रनों की महत्वपूर्ण पारी खेली, जिसके कारण भारत ने पहली बार वेस्टइंडीज को वर्ल्ड कप में मात दी। अपनी इस पारी के दौरान वो 133 मिनट तक मैदान में डटे रहे थे और 9 चुके जड़े थे। उन्हें इस पारी के लिए ‘प्लेयर ऑफ द मैच’ का ख़िताब मिला था।

पूर्व क्रिकेटर यशपाल शर्मा ने अपनी करियर में भारत की तरफ से 37 टेस्ट और 42 वनडे मैच खेले। उन्होंने टेस्ट में 1606 रन और वनडे में 883 रन बनाए। यशपाल शर्मा ने टेस्ट मैचों में 2 शतक भी लगाए थे। उनका नाम पहली बार 1972 में सामने आया था, जब उन्होंने पंजाब स्कूल्स की तरफ से खेलते हुए जम्मू कश्मीर स्कूल्स के खिलाफ 260 रनों की बड़ी पारी खेली थी। फिर उन्होंने दिलीप ट्रॉफी में नॉर्थ जोन की तरफ से 173 रनों की पारी खेली।

सिर्फ वेस्टइंडीज ही नहीं, 1983 वर्ल्ड कप सेमी फाइनल में इंग्लैंड पर भारत को जो जीत मिली, उसमें भी उन्होंने अच्छी पारी खेली थी। 61 रनों की पारी खेल कर उन्होंने उस मैच में सबसे ज्यादा रन बनाए थे। इससे भारत को या मैच 6 विकेट से जीतने में आसानी हुई। हालाँकि, वर्ल्ड कप के बाद उनका फॉर्म गिरा और पाकिस्तान व वेस्टइंडीज के खिलाफ खराब प्रदर्शन के कारण वो टेस्ट स्क्वाड से भार हो गए।

Updated: October 1, 2021 — 6:17 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *