दिल्ली में सर्दी का सितम, शिमला से भी ठंडी रही राजधानी, आज से राहत की उम्मीद

No Comments
दिल्ली में सर्दी का सितम, शिमला से भी ठंडी रही राजधानी, आज से राहत की उम्मीद

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

दिल्ली-एनसीआर में सर्दी का सितम कम होने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान शिमला से करीब डेढ़ डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार, शुक्रवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन कम 4.2 और अधिकतम भी सामान्य से तीन कम 18.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उधर, शिमला का न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री और अधिकतम 15.5 डिग्री सेल्सियस रहा। इस लिहाज से न्यूनतम तापमान दिल्ली से करीब डेढ़ डिग्री सेल्सिसय ज्यादा है। इस वजह से लोग दिनभर ठिठुरते रहे। 

मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले दो दिन पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली-एनसीआर को ठंड से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है, लेकिन इसके बाद फिर ठंड का दौर शुरू हो जाएगा। वैसे, हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा अधिकतम तापमान सोलन और ऊना में 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। 

मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में हवा में नमी का अधिकतम स्तर 100 ऱ न्यूनतम 70 फ़ीसदी रहा। वहीं, दिल्ली का लोदी रोड इलाका 4.6 डिग्री सेल्सियस के न्यूनतम तापमान के साथ सबसे ठंडा रहा। स्काईमेट वेदर के प्रमुख मौसम विज्ञानी महेश पलावत के अनुसार, शुक्रवार से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है। इस वजह से पहाड़ों पर बर्फबारी शुरू हो गई है।

इसे देखते हुए दो दिन के भीतर न्यूनतम तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की जाएगी। इसके बाद के दिनों में यूनतम तापमान में दो से 4 डिग्री सेल्सियस की गिरावट भी होगी। दिन का तापमान भी गिरेगा। इस वजह से सर्द हवाएं सताएंगी।

हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंची
मौसम में बदलाव की वजह से शुक्रवार को हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंच गई। इससे पहले यह खराब श्रेणी में थी। अगले दो दिन पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हवा की स्थिति में आंशिक सुधार की संभावना है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, शुक्रवार को राजधानी का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 364 दर्ज हुआ। फरीदाबाद में अक्यूआई 376 रहा।

सफर के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ की वजह से वेंटिलेशन इंडेक्स में सुधार होगा और हवा की गति भी बढ़ेगी। इससे आंशिक सुधार की संभावना है। पिछले 24 घंटे में प्रदूषण के लिए जिम्मेदार तत्व पीएम10 का स्तर 306 और पीएम2.5 का स्तर 189 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया। पीएम10 का स्तर 100 से कम और पीएम2.5 का स्तर 60 से कम होने पर सुरक्षित माना जाता है।

एक्यूआई के हालात
दिल्ली    364
फरीदाबाद    376
गाजियाबाद    371 
ग्रेटर नोएडा    322
गुरुग्राम    315
नोएडा    360

दिल्ली-एनसीआर में सर्दी का सितम कम होने का नाम नहीं ले रहा है। शुक्रवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान शिमला से करीब डेढ़ डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के अनुसार, शुक्रवार को दिल्ली का न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन कम 4.2 और अधिकतम भी सामान्य से तीन कम 18.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उधर, शिमला का न्यूनतम तापमान 5.8 डिग्री और अधिकतम 15.5 डिग्री सेल्सियस रहा। इस लिहाज से न्यूनतम तापमान दिल्ली से करीब डेढ़ डिग्री सेल्सिसय ज्यादा है। इस वजह से लोग दिनभर ठिठुरते रहे। 

मौसम विभाग का अनुमान है कि अगले दो दिन पश्चिमी विक्षोभ के कारण दिल्ली-एनसीआर को ठंड से कुछ राहत मिलने की उम्मीद है, लेकिन इसके बाद फिर ठंड का दौर शुरू हो जाएगा। वैसे, हिमाचल प्रदेश में सबसे ज्यादा अधिकतम तापमान सोलन और ऊना में 24 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ। 

मौसम विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में हवा में नमी का अधिकतम स्तर 100 ऱ न्यूनतम 70 फ़ीसदी रहा। वहीं, दिल्ली का लोदी रोड इलाका 4.6 डिग्री सेल्सियस के न्यूनतम तापमान के साथ सबसे ठंडा रहा। स्काईमेट वेदर के प्रमुख मौसम विज्ञानी महेश पलावत के अनुसार, शुक्रवार से पश्चिमी विक्षोभ सक्रिय हो गया है। इस वजह से पहाड़ों पर बर्फबारी शुरू हो गई है।

इसे देखते हुए दो दिन के भीतर न्यूनतम तापमान में दो से चार डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज की जाएगी। इसके बाद के दिनों में यूनतम तापमान में दो से 4 डिग्री सेल्सियस की गिरावट भी होगी। दिन का तापमान भी गिरेगा। इस वजह से सर्द हवाएं सताएंगी।

हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंची

मौसम में बदलाव की वजह से शुक्रवार को हवा बहुत खराब श्रेणी में पहुंच गई। इससे पहले यह खराब श्रेणी में थी। अगले दो दिन पश्चिमी विक्षोभ की वजह से हवा की स्थिति में आंशिक सुधार की संभावना है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, शुक्रवार को राजधानी का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 364 दर्ज हुआ। फरीदाबाद में अक्यूआई 376 रहा।

सफर के अनुसार, पश्चिमी विक्षोभ की वजह से वेंटिलेशन इंडेक्स में सुधार होगा और हवा की गति भी बढ़ेगी। इससे आंशिक सुधार की संभावना है। पिछले 24 घंटे में प्रदूषण के लिए जिम्मेदार तत्व पीएम10 का स्तर 306 और पीएम2.5 का स्तर 189 माइक्रोग्राम प्रति घनमीटर दर्ज किया गया। पीएम10 का स्तर 100 से कम और पीएम2.5 का स्तर 60 से कम होने पर सुरक्षित माना जाता है।

एक्यूआई के हालात

दिल्ली    364

फरीदाबाद    376

गाजियाबाद    371 

ग्रेटर नोएडा    322

गुरुग्राम    315

नोएडा    360

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *