दो ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षकों पर कार्रवाई, पर्यवेक्षकों पर कसेगा शिकंजा

ख़बर सुनें

लखीमपुर खीरी। गन्ना शोध प्रशिक्षण संस्थान शाहजहांपुर में एक प्रशिक्षण छूटने के बाद दूसरे प्रशिक्षण कैंप में भी बेलरायां और संपूर्णानगर समिति क्षेत्र के आठ किसान सोमवार को शामिल नहीं हुए, जिसमें दोनों क्षेत्रों के दो ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षकों की लापरवाही पाई गई है। जिला गन्ना अधिकारी ब्रजेश कुमार पटेल ने दोनों ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षकों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें प्रतिकूल प्रविष्टि की चेतावनी दी है और स्पष्टीकरण भी तलब किया है।
राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन से आच्छादित बेलरायां क्षेत्र से पांच गन्ना किसानों और संपूर्णानगर क्षेत्र के तीन गन्ना किसानों को गन्ना शोध संस्थान में पांच और छह मार्च 2021 को हुए प्रशिक्षण कैंप में शामिल होना था, लेकिन यह आठों किसान प्रशिक्षण में शामिल नहीं हुए। इसके बाद गन्ना शोध संस्थान ने दूसरा प्रशिक्षण कैंप 22 व 23 मार्च 2021 को लगाया, जिसमें सोमवार को पहले दिन एक भी किसान शामिल होने नहीं पहुंचा। संस्थान के निदेशक ने मामले की जानकारी जिला गन्ना अधिकारी को दी। प्रशिक्षण कैंप के माध्यम से मिलने वाली महत्वपूर्ण तकनीकी जानकारी से किसानों को वंचित होना पड़ा है, जबकि सरकार का जोर किसानों को उन्नत खेती के माध्यम से दोगुनी आय करने पर है। ऐसे में योजना को पलीता लगते देख जिला गन्ना अधिकारी ब्रजेश कुमार पटेल ने बेलरायां के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक मनोज कुमार पांडेय और संपूर्णानगर के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक राजेश कुमार सिंह को शोकाज नोटिस जारी कर प्रतिकूल प्रविष्टि देने की चेतावनी दी है। साथ ही किसानों को प्रशिक्षण कैंप में शामिल होने के लिए न भेजने की बावत जवाब संतोषजनक न होने पर कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। इसके अलावा दोनों सर्किलों के गन्ना पर्यवेक्षकों पर भी कार्रवाई हो सकती है, जिसके लिए डीसीओ ने संबंधित पर्यवेक्षकों को नोटिस जारी की है। संवाद

लखीमपुर खीरी। गन्ना शोध प्रशिक्षण संस्थान शाहजहांपुर में एक प्रशिक्षण छूटने के बाद दूसरे प्रशिक्षण कैंप में भी बेलरायां और संपूर्णानगर समिति क्षेत्र के आठ किसान सोमवार को शामिल नहीं हुए, जिसमें दोनों क्षेत्रों के दो ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षकों की लापरवाही पाई गई है। जिला गन्ना अधिकारी ब्रजेश कुमार पटेल ने दोनों ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षकों पर कार्रवाई करते हुए उन्हें प्रतिकूल प्रविष्टि की चेतावनी दी है और स्पष्टीकरण भी तलब किया है।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा मिशन से आच्छादित बेलरायां क्षेत्र से पांच गन्ना किसानों और संपूर्णानगर क्षेत्र के तीन गन्ना किसानों को गन्ना शोध संस्थान में पांच और छह मार्च 2021 को हुए प्रशिक्षण कैंप में शामिल होना था, लेकिन यह आठों किसान प्रशिक्षण में शामिल नहीं हुए। इसके बाद गन्ना शोध संस्थान ने दूसरा प्रशिक्षण कैंप 22 व 23 मार्च 2021 को लगाया, जिसमें सोमवार को पहले दिन एक भी किसान शामिल होने नहीं पहुंचा। संस्थान के निदेशक ने मामले की जानकारी जिला गन्ना अधिकारी को दी। प्रशिक्षण कैंप के माध्यम से मिलने वाली महत्वपूर्ण तकनीकी जानकारी से किसानों को वंचित होना पड़ा है, जबकि सरकार का जोर किसानों को उन्नत खेती के माध्यम से दोगुनी आय करने पर है। ऐसे में योजना को पलीता लगते देख जिला गन्ना अधिकारी ब्रजेश कुमार पटेल ने बेलरायां के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक मनोज कुमार पांडेय और संपूर्णानगर के ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक राजेश कुमार सिंह को शोकाज नोटिस जारी कर प्रतिकूल प्रविष्टि देने की चेतावनी दी है। साथ ही किसानों को प्रशिक्षण कैंप में शामिल होने के लिए न भेजने की बावत जवाब संतोषजनक न होने पर कड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। इसके अलावा दोनों सर्किलों के गन्ना पर्यवेक्षकों पर भी कार्रवाई हो सकती है, जिसके लिए डीसीओ ने संबंधित पर्यवेक्षकों को नोटिस जारी की है। संवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *