नवद्वीप में BJP की परिवर्तन यात्रा का आगाज, नड्डा बोले- बंगाल ईस्ट पाकिस्तान में जा रहा था, श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने इसे बचाया

डिजिटल डेस्क, कोलकाता। बंगाल में जल्द ही विधानसभा चुनाव की घोषणा होने वाली है। ऐसे में बंगाल का राजनीतिक तापमान तेजी से बढ़ रहा है। इस बढ़े हुए तापमान के बीच शनिवार को बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने नौदीप से रथ को हरी झंडी दिखाकर परिवर्तन यात्रा का आगाज किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि नेहरू के जमाने में बंगाल ईस्ट पाकिस्तान के हिस्से में जा रहा था। पाकिस्तान के दो टुकड़े हुए, तो बंगाल को बचाने का काम श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने किया।

जेपी नड्डा ने कहा, यहां से परिवर्तन यात्रा की शुरुआत हो गई है। ये परिवर्तन सिर्फ सकार का परिवर्तन नहीं, ये परिवर्तन विचार का परिवर्तन है। 10 वर्ष पहले मां, माटी, मानुष के नाम पर ममता दीदी ने यहां सरकार बनाई थी। 10 साल में माता को लूटा गया, बंगाल की अस्मिता पर आघात पहुंचाया गया, माटी की इज्जत भी नहीं की गई। उन्होंने कहा, यहां भ्रष्टाचार को संस्थागत बना दिया गया, प्रशासन का राजनीतिकरण कर दिया और पुलिस के साथ साथ उसका इस्तेमाल क्रिमिनल एक्टिविटी को बढ़ावा देने के लिए किया गया।

नड्डा ने कहा, यहां भाजपा के करीब 130 कार्यकर्ता मारे गए हैं। 300 से ज्यादा कार्यकर्ताओं पर हमला हुआ है। ये जब हम पर हमला कर सकते हैं तो साधारण लोगों का क्या हाल होगा? ऐसी सरकार को जाना होगा। बंगाल की जनता को आयुष्मान भारत योजना का लाभ नहीं दिया गया। परिवर्तन यात्रा के माध्यम से जनता को मोदी सरकार की आयुष्मान योजना के बारे में बताएं कि उनके स्वास्थ्य की चिंता मोदी जी ने की थी लेकिन ममता बीच में अड़ंगा बनकर खड़ी रहीं।

जेपी नड्डा ने कहा, बंगाल की संस्कृति को ममता जी नहीं संभाल सकती, इसकी सुरक्षा भाजपा के कार्यकर्ता करेंगे। ममता जी जिस तरह मेरे नाम के आगे विशेषण लगाती हैं, वो बताता है कि आपने बंगाल की संस्कृति का निरादर किया है। बंगाल की संस्कृति का संरक्षण नरेन्द्र मोदी जी कर रहे हैं। नड्डा ने कहा, बंगाल में आज महिलाओं के साथ सबसे ज्यादा अत्याचार हो रहा है। रेप के केस सबसे ज्यादा बंगाल में हो रहे हैं, घरेलू हिंसा सबसे ज्यादा बंगाल में हो रही है। बंगाल की मुख्यमंत्री एक महिला है, फिर भी महिलाओं की इज्जत न हो, तो बंगाल को परिवर्तन चाहिए।

बीजेपी अध्यक्ष ने कहा, बंगाल के लोगों ने जय श्रीराम का नारा लगाया तो इस नारे से इतनी नफरत क्यों है? क्या भारत की संस्कृति के साथ जुड़ना गलत है? क्या महापुरुषों का नाम लेना गलत है? इन लोगों के लिए राजनीति संस्कृति से ऊपर है। उन्होंने कहा, मुझे पश्चिम बंगाल की जनता का रुख साफ नजर आ रहा है कि परिवर्तन आएगा, कमल खिलेगा, TMC जाएगी ये तय हो चुका है।



Home

Categories Uncategorized

Leave a Comment