ब्रिटेन : कोरोना के नए वेरिएंट के बाद बाढ़ और तूफान ने खड़ी की नई चुनौतियां, चर्च को बनाया टीका केंद्र

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, लंदन
Updated Fri, 22 Jan 2021 12:43 PM IST

ब्रिटेन में बाढ़ का कहर
– फोटो : social media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

ब्रिटेन सरकार के लिए लगातार चुनौतियां की फेहरिस्त बढ़ती जा रही है। पहले महामारी से जंग लड़ने के बाद टीके ने थोड़ी उम्मीद जगाई तो कोरोना के नए वेरिएंट ने वहां के लोगों को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया। ब्रिटेन में दोबारा लॉकडाउन लगाने के बाद स्थिति थोड़ी नियंत्रण में आई ही थी कि अब कई हिस्सों बर्फवारी और चक्रवाती तूफान क्रिस्टोफ ने वहां दस्तक दे दी है।

इस तूफान की वजह से इंग्लैंड समेत कई इलाकों में बाढ़ आ गई है, जिसका सीधा असर वैक्सीनेशन पर पड़ रहा है। हालांकि ब्रिटेन में टीकाकरण अभियान को जारी रखने के लिए प्रशासन ने एक चर्च को ही टीका केंद्र में बदल दिया। इसके अलावा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने गुरुवार को हेलिकॉप्टर के बाढ़ से प्रभावित इलाकों का दौरा किया।

ब्रिटेन की मौसम एजेंसी के मुताबिक, इंग्लैंड में पूर्वी-पश्चिम डड्सबरी और नॉर्थेडेन में दो हजार घरों को खाली कराया गया है। बाढ़ की वजह से यहां की स्वॉलेन नदी का जलस्तर 2016 के 9.8 फीट के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 10.7 फीट तक बढ़ गया है।

ब्रिटेन के एक स्थानीय नेता मार्क प्रिचर्ड ने बताया कि इंडस्ट्रियल एस्टेट में ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को गोदाम में भंडार करके रखा जाता है। उन्होंने कहा कि हमें इस बात को सुनिश्चित करना होगा कि बाढ़ में वैक्सीन को नुकसान ना पहुंचे। इस प्लांट का हर साल वैक्सीन की 300 मिलियन खुराक बनाने का काम दिया गया है।

स्थानीय नेता ने बताया कि ये प्लाटं डी नदी के पास है और इसका जलस्तर 1996 में वॉटर गेज के चालू होने के बाद अपने उच्चतम रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ गया है। वहीं बात करें राहत बचाव कार्य की तो अब तक बाढ़ग्रस्त इलाकों में दो हजार घरों को खाली करा दिया गया है। इसके अलावा लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है। 

क्रिस्टोफ तूफान से आई बाढ़ के कारण ज्यादातर इलाकों में पानी भर गया है और इससे कई इमारतों को भी नुकसान हुआ है। इंग्लैंड और स्कॉटलैंड में तीन फीट बर्फ गिर चुकी है। यहां दो सौ से ज्यादा सड़कें बंद हैं और लोगों को घरों में रहने की सलाह दी जा रही है।

ब्रिटेन सरकार के लिए लगातार चुनौतियां की फेहरिस्त बढ़ती जा रही है। पहले महामारी से जंग लड़ने के बाद टीके ने थोड़ी उम्मीद जगाई तो कोरोना के नए वेरिएंट ने वहां के लोगों को अपनी चपेट में लेना शुरू कर दिया। ब्रिटेन में दोबारा लॉकडाउन लगाने के बाद स्थिति थोड़ी नियंत्रण में आई ही थी कि अब कई हिस्सों बर्फवारी और चक्रवाती तूफान क्रिस्टोफ ने वहां दस्तक दे दी है।

इस तूफान की वजह से इंग्लैंड समेत कई इलाकों में बाढ़ आ गई है, जिसका सीधा असर वैक्सीनेशन पर पड़ रहा है। हालांकि ब्रिटेन में टीकाकरण अभियान को जारी रखने के लिए प्रशासन ने एक चर्च को ही टीका केंद्र में बदल दिया। इसके अलावा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने गुरुवार को हेलिकॉप्टर के बाढ़ से प्रभावित इलाकों का दौरा किया।

ब्रिटेन की मौसम एजेंसी के मुताबिक, इंग्लैंड में पूर्वी-पश्चिम डड्सबरी और नॉर्थेडेन में दो हजार घरों को खाली कराया गया है। बाढ़ की वजह से यहां की स्वॉलेन नदी का जलस्तर 2016 के 9.8 फीट के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए 10.7 फीट तक बढ़ गया है।

ब्रिटेन के एक स्थानीय नेता मार्क प्रिचर्ड ने बताया कि इंडस्ट्रियल एस्टेट में ऑक्सफोर्ड वैक्सीन को गोदाम में भंडार करके रखा जाता है। उन्होंने कहा कि हमें इस बात को सुनिश्चित करना होगा कि बाढ़ में वैक्सीन को नुकसान ना पहुंचे। इस प्लांट का हर साल वैक्सीन की 300 मिलियन खुराक बनाने का काम दिया गया है।

स्थानीय नेता ने बताया कि ये प्लाटं डी नदी के पास है और इसका जलस्तर 1996 में वॉटर गेज के चालू होने के बाद अपने उच्चतम रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ गया है। वहीं बात करें राहत बचाव कार्य की तो अब तक बाढ़ग्रस्त इलाकों में दो हजार घरों को खाली करा दिया गया है। इसके अलावा लोगों को रेस्क्यू कर सुरक्षित स्थान पर पहुंचा दिया गया है। 

क्रिस्टोफ तूफान से आई बाढ़ के कारण ज्यादातर इलाकों में पानी भर गया है और इससे कई इमारतों को भी नुकसान हुआ है। इंग्लैंड और स्कॉटलैंड में तीन फीट बर्फ गिर चुकी है। यहां दो सौ से ज्यादा सड़कें बंद हैं और लोगों को घरों में रहने की सलाह दी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *