यूँ ही नहीं कोई ‘मेट्रो मैन’ बन जाता: चुनाव हारे पर वादा नहीं भूले ई श्रीधरन, दलितों के घर आई रोशनी

दुनिया ई श्रीधरन को ‘मेट्रो मैन’ के नाम से जानती है। इस बार वे केरल की पलक्कड विधानसभा सीट से बीजेपी के प्रत्याशी थे। विधानसभा चुनावों में वे करीबी मुकाबले में हार गए। लेकिन, वे अपना वादा नहीं भूले। चुनाव के बाद भी वे इस क्षेत्र के लोगों की सहायता के लिए आगे आए हैं। उन्हें कॉन्ग्रेस के शफ़ी परम्बिल ने लगभग 4,000 वोटों से हराया था।

88 वर्षीय ई श्रीधरन ने विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान पलक्कड नगर पालिका की मदुरावीरन कॉलोनी के निवासियों से वादा किया था कि चुनाव में उनकी जीत हो या हार, लेकिन क्षेत्र के सभी परिवारों को बिजली कनेक्शन मिलेगा। हाल ही में क्षेत्र के कुछ निवासी श्रीधरन के पास यह शिकायत लेकर आए कि नगर पालिका के वार्ड 3 में कुछ ऐसे अनुसूचित जाति परिवार हैं जिनके पास बिजली का कनेक्शन नहीं है। कुछ और भी लोग थे जिनका बिल बकाया होने के कारण बिजली कनेक्शन काट दिया गया था।

मंगलवार (18 मई 2021) को ई श्रीधरन ने मदुरावीरन के निवासियों की समस्या को हल करने के लिए केरल स्टेट इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड के असिस्टेंट इंजीनियर के नाम पर 81,525 रुपए का चेक दिया। श्रीधरन द्वारा चेक दिए जाने के बाद अनुसूचित जाति के 11 परिवारों को नया बिजली कनेक्शन मिलेगा। जिन लोगों का बिल जमा नहीं होने के कारण कनेक्शन काट दिया गया था उनके घर का भी अँधेरा दूर होगा।

आपको बता दें कि भारत में मेट्रो परियोजना की नींव रखने वाले पद्म विभूषण ई श्रीधरन केरल विधानसभा चुनाव के पहले भाजपा में शामिल हुए थे। वे एक कुशल प्रशासक माने जाते हैं और देश में उनके नेतृत्व में कई कठिन परियोजनाएँ सफल हुईं।  

Leave a Comment