यूपीः अपहृत छात्र गौरव को एसटीएफ ने नोएडा से किया बरामद, महिला डॉक्टर के साथ मिलकर रची थी साजिश

No Comments
यूपीः अपहृत छात्र गौरव को एसटीएफ ने नोएडा से किया बरामद, महिला डॉक्टर के साथ मिलकर रची थी साजिश

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गोंडा
Updated Fri, 22 Jan 2021 12:51 PM IST

गौरव हालदार को एसटीएफ ने नोएडा से किया बरामद
– फोटो : amar ujala

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

गोंडा से अपहृत मेडिकल के छात्र को नोएडा एसटीएफ तथा गोंडा पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है। छात्र को अगवा करने वाले बदमाशों के साथ हुई मुठभेड़ के बाद एसटीएफ ने 3 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इस गैंग में शामिल एक महिला डॉक्टर अभी फरार है। छात्र को अगवा कर 70 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई थी।

पश्चिमी यूपी एसटीएफ के एसपी कुलदीप नारायण सिंह तथा जनपद गोंडा के एसपी शैलेंद्र पांडे ने एक संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान आज सुबह को बताया कि जनपद बहराइच के रहने वाले गौरव हालदार नामक मेडिकल के छात्र का 18 जनवरी को जनपद गोंडा से अपहरण हुआ था। इस मामले में उनके पिता निखिल हालदार ने थाना पयागपुर में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। गौरव गोंडा के एससीपीएम कॉलेज से बीएएमएस की पढ़ाई कर रहा था। उन्होंने बताया कि अपहरणकर्ताओं ने अपने छात्र के परिजनों से 70 लाख की फिरौती मांगी थी।

उन्होंने बताया कि जांच के दौरान यह बात संज्ञान में आई कि छात्र को अपहरण करने के बाद एनसीआर में रखा गया है। एसपी ने बताया कि इस सूचना के आधार पर नोएडा एसटीएफ के  एसपी राजकुमार मिश्रा तथा गोंडा पुलिस अपहृत छात्र को बरामद करने तथा अपहरण करने वाले लोगों की गिरफ्तारी में जुट गई। उन्होंने बताया कि आज सुबह एक सूचना के आधार पर एसटीएफ व गोंडा पुलिस ने नोएडा एक्सप्रेस वे से एक मुठभेड़ के दौरान डॉ अभिषेक सिंह पुत्र राजेश सिंह, नितेश पुत्र विनोद बिहारी तथा मोहित सिंह पुत्र शिव मूरत सिंह को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि इनके पास से पुलिस ने घटना में प्रयुक्त एक कार, देसी तमंचा व कारतूस , छात्र को बेहोश करने में प्रयोग हुई नशे का इंजेक्शन आदि बरामद किया है।

एसपी ने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि इस घटना का मास्टरमाइंड डॉक्टर अभिषेक सिंह है। वह जनपद गोंडा का रहने वाला है, तथा अपहृत छात्र गौरव को वह जानता है। डॉक्टर अभिषेक दिल्ली के नजफगढ़ स्थित राठी अस्पताल  में डॉक्टर के रूप में काम करता है। यहीं पर काम करने वाली डॉक्टर प्रीति मेहरा नामक एक महिला डॉक्टर के साथ मिलकर उसने इस घटना का ताना-बाना बुना। प्रीति मेहरा के माध्यम से उसने गौरव से बातचीत शुरू करवाई, तथा उसे जनपद गोंडा में मिलने के लिए 18 जनवरी को बुलाया। वहां से इन लोगों ने छात्र को अगवा कर लिया, तथा उसे नशे का इंजेक्शन देकर गोंडा से दिल्ली की लेकर आए। इन लोगों ने अपहृत छात्र को दिल्ली के बक्करवाला स्थित डीडीए फ्लैट में रखा था। एसपी ने बताया कि इस घटना में शामिल प्रीति मेहरा फरार है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

एसपी ने बताया कि इस घटना में शामिल रोहित तथा सतीश नामक 2 बदमाशो को जनपद गोंडा में आज गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है, कि इस घटना में शामिल नितेश दिल्ली में फर्जी कॉल सेंटर चलाकर, धोखाधड़ी करने के मामले में संलिप्त है। उन्होंने बताया कि छात्र के अपहरण का ताना-बाना दीपावली के समय से ही बुना गया था।

गोंडा से अपहृत मेडिकल के छात्र को नोएडा एसटीएफ तथा गोंडा पुलिस ने सकुशल बरामद कर लिया है। छात्र को अगवा करने वाले बदमाशों के साथ हुई मुठभेड़ के बाद एसटीएफ ने 3 बदमाशों को गिरफ्तार किया है। इस गैंग में शामिल एक महिला डॉक्टर अभी फरार है। छात्र को अगवा कर 70 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई थी।

पश्चिमी यूपी एसटीएफ के एसपी कुलदीप नारायण सिंह तथा जनपद गोंडा के एसपी शैलेंद्र पांडे ने एक संयुक्त प्रेस वार्ता के दौरान आज सुबह को बताया कि जनपद बहराइच के रहने वाले गौरव हालदार नामक मेडिकल के छात्र का 18 जनवरी को जनपद गोंडा से अपहरण हुआ था। इस मामले में उनके पिता निखिल हालदार ने थाना पयागपुर में अपहरण का मुकदमा दर्ज कराया था। गौरव गोंडा के एससीपीएम कॉलेज से बीएएमएस की पढ़ाई कर रहा था। उन्होंने बताया कि अपहरणकर्ताओं ने अपने छात्र के परिजनों से 70 लाख की फिरौती मांगी थी।

उन्होंने बताया कि जांच के दौरान यह बात संज्ञान में आई कि छात्र को अपहरण करने के बाद एनसीआर में रखा गया है। एसपी ने बताया कि इस सूचना के आधार पर नोएडा एसटीएफ के  एसपी राजकुमार मिश्रा तथा गोंडा पुलिस अपहृत छात्र को बरामद करने तथा अपहरण करने वाले लोगों की गिरफ्तारी में जुट गई। उन्होंने बताया कि आज सुबह एक सूचना के आधार पर एसटीएफ व गोंडा पुलिस ने नोएडा एक्सप्रेस वे से एक मुठभेड़ के दौरान डॉ अभिषेक सिंह पुत्र राजेश सिंह, नितेश पुत्र विनोद बिहारी तथा मोहित सिंह पुत्र शिव मूरत सिंह को गिरफ्तार किया है। उन्होंने बताया कि इनके पास से पुलिस ने घटना में प्रयुक्त एक कार, देसी तमंचा व कारतूस , छात्र को बेहोश करने में प्रयोग हुई नशे का इंजेक्शन आदि बरामद किया है।

एसपी ने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है कि इस घटना का मास्टरमाइंड डॉक्टर अभिषेक सिंह है। वह जनपद गोंडा का रहने वाला है, तथा अपहृत छात्र गौरव को वह जानता है। डॉक्टर अभिषेक दिल्ली के नजफगढ़ स्थित राठी अस्पताल  में डॉक्टर के रूप में काम करता है। यहीं पर काम करने वाली डॉक्टर प्रीति मेहरा नामक एक महिला डॉक्टर के साथ मिलकर उसने इस घटना का ताना-बाना बुना। प्रीति मेहरा के माध्यम से उसने गौरव से बातचीत शुरू करवाई, तथा उसे जनपद गोंडा में मिलने के लिए 18 जनवरी को बुलाया। वहां से इन लोगों ने छात्र को अगवा कर लिया, तथा उसे नशे का इंजेक्शन देकर गोंडा से दिल्ली की लेकर आए। इन लोगों ने अपहृत छात्र को दिल्ली के बक्करवाला स्थित डीडीए फ्लैट में रखा था। एसपी ने बताया कि इस घटना में शामिल प्रीति मेहरा फरार है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है।

एसपी ने बताया कि इस घटना में शामिल रोहित तथा सतीश नामक 2 बदमाशो को जनपद गोंडा में आज गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान पुलिस को पता चला है, कि इस घटना में शामिल नितेश दिल्ली में फर्जी कॉल सेंटर चलाकर, धोखाधड़ी करने के मामले में संलिप्त है। उन्होंने बताया कि छात्र के अपहरण का ताना-बाना दीपावली के समय से ही बुना गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *