यूपी, राजस्थान और एमपी ने आकाशीय बिजली ने ली 67 की जान: हिमाचल में बादल फटने से तबाही, देखें धर्मशाला का Video

उत्तर प्रदेश, राजस्थान और मध्यप्रदेश में रविवार (11 जुलाई 2021) को आकाशीय बिजली से 67 लोगों की मौत हो गई। दूसरी ओर सोमवार को हिमाचल प्रदेश में बादल फटने से भारी तबाही हुई है। इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं।

जानकारी के मुताबिक, आकाशीय बिजली के कारण उत्तर प्रदेश में अब तक 40 मौतें होने की खबर है। सीएम योगी आदित्यनाथ ने इस आपदा के कारण गई जानों पर दुख व्यक्त करते हुए राहत राशि का ऐलान किया है।

इसी तरह राजस्थान में 20 लोग हताहत हुए। मरने वालों में 7 बच्चे भी शामिल हैं जो कोटा और ढोलपुर जिले के रहने वाले थे। इनके अलावा 10 के घायल होने की भी खबर है। बताया जा रहा है कि राजस्थान के आमेर के किले के पास वाच टावर पर चढ़कर सेल्फी लेते समय 8 लोगों की जान गई। मध्यप्रदेश  में भी 7 लोगों ने अपनी जान गँवाई है।

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने मृतकों के परिजनों के साथ संवेदना व्यक्त करते हुए उन्हें 5 लाख रुपए मुआवजा देने का ऐलान किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी आकाशीय बिजले से हुई मौतों पर संवेदना जाहिर की है। साथ ही प्राइम मिनिस्टर रिलीफ फंड से 2 लाख रुपए अतिरिक्त मुआवजा देने की घोषणा की है। पीएम ने घायलों को भी 50,000 की आर्थिक मदद करने का ऐलान किया है।

धर्मशाला में फटा बादल

बता दें कि एक ओर राजस्थान, मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश आकाशीय बिजली से प्रभावित हुए हैं और दूसरी ओर हिमाचल प्रदेश में बादल फटने से धर्मशाला में भारी बाढ़ आ गई है। हालाँकि, इस घटना में अभी तक किसी के हताहत होने की कोई सूचना नहीं है लेकिन सामने आई वीडियोज में देख सकते हैं कि पानी का बहाव इतना तेज है कि सड़क पर खड़ी कार उसके साथ तैर रही है। इसके अलावा इस प्राकृतिक आपदा से शिमला के रामपुर में हाईवे ब्लॉक हो गया है।

टाइम्स नाऊ की रिपोर्ट के अनुसार,  भारी बारिश की आशंका को लेकर 12 और 13 जुलाई को ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है, जबकि येलो वेदर वॉर्निंग 14 और 15 जुलाई के लिए जारी की गई है। इस बीच उन टूरिस्टों की तस्वीरें भी सामने आई हैं जो कोविड के थोड़ा थमते ही धर्मशाला पहुँचे और वहाँ जाकर कोविड प्रोटोक़ॉल्स की धज्जियाँ उड़ाते नजर आए।

Updated: October 1, 2021 — 2:55 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *