राहुल का केंद्र पर निशाना, कहा- चीन भारतीय क्षेत्र में कब्जे का कर रहा है विस्तार, चुप हैं पीएम मोदी

No Comments
राहुल का केंद्र पर निशाना, कहा- चीन भारतीय क्षेत्र में कब्जे का कर रहा है विस्तार, चुप हैं पीएम मोदी

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, करूर
Updated Mon, 25 Jan 2021 02:23 PM IST

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी
– फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी इन दिनों तमिनाडु दौरे पर हैं। राज्य में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं इसलिए उनका यह दौरा काफी अहम है। दौरे के तीसरे दिन राहुल गांधी ने करूर में केंद्र सरकार पर निशाना साधा। भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध को लेकर राहुल ने कहा कि चीन भारतीय क्षेत्र में अपने कब्जे का विस्तार कर रहा है। उन्होंने कहा कि छह सालों से देश में भाजपा-आरएसएस की विचारधारा नफरत फैला रही है। उन्होंने कृषि कानून को लेकर भी सरकार को घेरा।

भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध को लेकर भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, ‘चीन भारतीय क्षेत्र में अपने कब्जे का विस्तार कर रहा है। मिस्टर 56 ने महीनों से ‘चीन’ शब्द नहीं कहा है। हो सकता है कि वे ‘चीन’ शब्द कहकर बात शुरू करेंगे।’

राहुल गांधी ने कहा, ‘यदि हम राष्ट्र को देखते हैं और हम देखते हैं कि प्रधानमंत्री ने पिछले छह सालों में क्या किया है। उन्होंने एक कमजोर भारत, एक विभाजित भारत, एक ऐसा भारत बनाया हैं जहां भाजपा-आरएसएस की विचारधारा पूरे देश में नफरत फैलाती है। हमारी सबसे बड़ी ताकत, हमारी अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है।’

कांक्रेस नेता ने कहा, ‘हमारे युवा अब नौकरी पाने में सक्षम नहीं हैं और यह उनकी गलती नहीं है। यह हमारे प्रधानमंत्री द्वारा की गई कार्रवाईयों का दोष है। प्रधानमंत्री हमारे किसानों पर हमला कर रहे हैं। उन्होंने तीन नए कानून बनाए हैं वो भारतीय कृषि को नष्ट करने और इसे दो-तीन बड़े उद्योगपतियों को सौंपने वाले हैं। कल्पना कीजिए कि कानूनों में से एक स्पष्ट रूप से बताता है कि किसान खुद की रक्षा के लिए अदालत में नहीं जा सकते।’

इसके अलावा उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही ‘वह व्यक्ति हैं जिनके जरिए’ बालाकोट एयर स्ट्राइक से पहले ही उसकी जानकारी ‘रिपब्लिक टीवी’ के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को मिली। हालांकि, उन्होंने अपने दावे को लेकर कोई सबूत पेश नहीं दिया। प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से भी फिलहाल इस दावे पर कोई जवाब नहीं आया है।

उन्होंने अर्नब की कथित व्हाट्सएप बातचीत का हवाला देते हुए कहा, ‘कुछ दिनों पहले यह जानकारी सामने आई कि एक पत्रकार बालाकोट में एयर स्ट्राइक के बारे में पहले से जानता था। पाकिस्तान में भारतीय वायुसेना की ओर से बमबारी किए जाने के तीन दिनों पहले ही एक पत्रकार को बता दिया गया कि क्या होने जा रहा है।’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी इन दिनों तमिनाडु दौरे पर हैं। राज्य में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं इसलिए उनका यह दौरा काफी अहम है। दौरे के तीसरे दिन राहुल गांधी ने करूर में केंद्र सरकार पर निशाना साधा। भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध को लेकर राहुल ने कहा कि चीन भारतीय क्षेत्र में अपने कब्जे का विस्तार कर रहा है। उन्होंने कहा कि छह सालों से देश में भाजपा-आरएसएस की विचारधारा नफरत फैला रही है। उन्होंने कृषि कानून को लेकर भी सरकार को घेरा।

भारत और चीन के बीच जारी गतिरोध को लेकर भी केंद्र सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा, ‘चीन भारतीय क्षेत्र में अपने कब्जे का विस्तार कर रहा है। मिस्टर 56 ने महीनों से ‘चीन’ शब्द नहीं कहा है। हो सकता है कि वे ‘चीन’ शब्द कहकर बात शुरू करेंगे।’

राहुल गांधी ने कहा, ‘यदि हम राष्ट्र को देखते हैं और हम देखते हैं कि प्रधानमंत्री ने पिछले छह सालों में क्या किया है। उन्होंने एक कमजोर भारत, एक विभाजित भारत, एक ऐसा भारत बनाया हैं जहां भाजपा-आरएसएस की विचारधारा पूरे देश में नफरत फैलाती है। हमारी सबसे बड़ी ताकत, हमारी अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो चुकी है।’

कांक्रेस नेता ने कहा, ‘हमारे युवा अब नौकरी पाने में सक्षम नहीं हैं और यह उनकी गलती नहीं है। यह हमारे प्रधानमंत्री द्वारा की गई कार्रवाईयों का दोष है। प्रधानमंत्री हमारे किसानों पर हमला कर रहे हैं। उन्होंने तीन नए कानून बनाए हैं वो भारतीय कृषि को नष्ट करने और इसे दो-तीन बड़े उद्योगपतियों को सौंपने वाले हैं। कल्पना कीजिए कि कानूनों में से एक स्पष्ट रूप से बताता है कि किसान खुद की रक्षा के लिए अदालत में नहीं जा सकते।’

इसके अलावा उन्होंने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ही ‘वह व्यक्ति हैं जिनके जरिए’ बालाकोट एयर स्ट्राइक से पहले ही उसकी जानकारी ‘रिपब्लिक टीवी’ के प्रधान संपादक अर्नब गोस्वामी को मिली। हालांकि, उन्होंने अपने दावे को लेकर कोई सबूत पेश नहीं दिया। प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से भी फिलहाल इस दावे पर कोई जवाब नहीं आया है।

उन्होंने अर्नब की कथित व्हाट्सएप बातचीत का हवाला देते हुए कहा, ‘कुछ दिनों पहले यह जानकारी सामने आई कि एक पत्रकार बालाकोट में एयर स्ट्राइक के बारे में पहले से जानता था। पाकिस्तान में भारतीय वायुसेना की ओर से बमबारी किए जाने के तीन दिनों पहले ही एक पत्रकार को बता दिया गया कि क्या होने जा रहा है।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *