विदर्भ की अनदेखी हुई, अब नहीं होगी,एकजुट रहकर महाराष्ट्र का विकास करेंगे-उद्धव

डिजिटल डेस्क, नागपुर । विदर्भ को लेकर विरोध के जवाब में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा है कि इस क्षेत्र से उनके परिवार का रक्त का रिश्ता है। क्षेत्र विकास के लिए हरसंभव प्रयास करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा-यह सही है कि विदर्भ अनदेखी हुई,लेकिन अब नहीं होगी। महाराष्ट्र एकसंघ अर्थात एकजुट रहकर कैसे आगे जा सकता है इस दिशा में काम हो रहा है। राज्य को हर मामले में आगे बढ़ायेंगे। गोसीखुर्द सिंचाई परियोजना के लिए किए जा रहे प्रयासों व गोसीखुर्द के दौरे का जिक्र करते हुए मुख्यमंत्री ने जोर देकर कहा-विदर्भ को लेकर जो भ्रम फैलाया जा रहा है उसे गोसीखुर्द के पानी से धोएंगे।

गोरेवाड़ा अंतरराष्ट्रीय प्राणी उद्यान के नामकरण कार्यक्रम में मुख्यमंत्री बोल रहे थे। इस प्रकल्प का नाम बाल ठाकरे अंतरराष्ट्रीय प्राणी उद्यान किया गया है। कार्यक्रम की अध्यक्षता वनमंत्री संजय राठोड ने की। गृहमंत्री अनिल देशमुख्र, पालकमंत्री नितीन राऊत, पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे,पशु संवर्धन मंत्री सुनील केदार,रामटेक के सांसद कृपाल तुमाने, विधायक विकास ठाकरे, आशीष जैस्वाल, विधानपरिषद सदस्य दुष्यंत चतुर्वेदी, अभिजीत वंजारी, भंडारा के विधायक नरेंद्र भोंडेकर, विधायक नितीन देशमुख मंच पर थे।

गोंडवाना थीम पार्क

बालासाहब ठाकरे अंतरराष्ट्रीय प्राणी उद्यान में गोंडवाना थीम पार्क बनेगा। मुख्यमंत्री ठाकरे ने कहा कि गोंडवाना पार्क में गोंड आदिवासी समुदाय की संस्कृति के दर्शन होंगे। विश्व पर्यटन के लिहाज से इस थीम पार्क का विकास किया जाएगा।

1 मई से समृद्धि महामार्ग

नागपुर से शिरडी समृद्धि महामार्ग का शुभारंभ 1 मई 2021 से किया जाएगा। इस महामार्ग का नामकरण पहले ही बालासाहब ठाकरे के नाम पर किया जा चुका है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बीत 20-25 दिनों में वे तीन बार विदर्भ के दौरे पर आये है इनमें समृद्धि महामार्ग का हेलीकाप्टर से निरीक्षण भी शामिल है।

पालकमंत्री राऊत के भाषण की चूक सुधारते रहे मुख्यमंत्री

पालकमंत्री नितीन राऊत ने भाषण में ठाकरे परिवार की जमकर तारीफ की। लेकिन उनके भाषण की चूक को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ही सुधारते रहे। भाषण के दौरान राऊत ने कहा कि शिवसेना के बाघ पहचान चिन्ह को अमरावती के विजय राऊत ने तैयार किया था। इस पर मुख्यमंत्री ने मंच से ही राऊत से कहा कि वह चिन्ह स्वयं बालासाहब ठाकरे ने ही तैयार किया था। राऊत ने भाषण में कहा था कि बालठाकरे का बचपन विदर्भ के अमरावती जिले के परतवाड़ा के गांव में बीता। बाल ठाकरे के पिता प्रबोधनकार ठाकरे परतवाड़ा में रहते थे। मुख्यमंत्री ने अपने भाषण में कहा कि बाल ठाकरे का बचपन पुणे में बीतने की जानकारी है। अमरावती जिले में बालासाहब का ननिहाल यानी मां का गांव है।

10 साल की फाइल देख लें, किसी ने नामकरण का जिक्र नहीं किया था

वनमंत्री संजय राठोर का भाजपा पर निशाना

गोरेवाड़ा अंतरराष्ट्रीय प्राणी उद्यान का नामकरण बाल ठाकरे अंतरराष्ट्रीय प्राणी उद्यान किये जाने के विरोध को लेकर वनमंत्री संजय राठोर ने भाजपा को आड़े हाथ लिया है। उन्होंने कहा इस उद्यान को बनाने की तैयारी पहले ही हुई थी। लेकिन 10 वर्ष तक उद्यान बनाने की केवल चर्चा चलती रही। 10 वर्ष के इंतजार के बाद यह उद्यान बन रहा है। 10 वर्ष की फाइल देख लें किसी ने भी इसके नामकरण को लेकर जिक्र नहीं किया। लेकिन अब गोंडवाना नाम के प्रस्ताव का निराधार  प्रचार किया जा रहा है। उन्होंने आदिवासी समाज से विरोधियों के बहकावे में नहीं आने का आव्हान भी किया। विपक्ष पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अच्छे काम के लिए नेता बनो लेकिन किसी के कंधे पर नेता मत बनो।

मेलघाट में वनीकरण के लिए दे 10 करोड

गृहमंत्री अनिल देशमुख ने कहा कि मेलघाट में आदिवासियों का जीवन वनीकरण के कार्य पर निर्भर है। उनके रोजगार के लिए वनीकरण के कार्यों को बढ़ावा दिया जाए। झुडपी छंटाई के लिए 10 करोड रुपये राज्य सरकार से मिले तो वनीकरण के कार्य को बढ़ावा मिलेगा।

भाजपा के नेता नहीं पहुंचे

कार्यक्रम में अतिथियों में केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी, विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस, महापौर दयाशंकर तिवारी शामिल थे। उद्घाटन फलक में उनका नाम भी है। लेकिन इनके अलावा कोई भी भाजपा नेता कार्यक्रम में नहीं पहुंचा।   

 



Home

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *