सोलन का 122 फुट ऊँचा शिव मंदिर, जहाँ पत्थरों को थपथपाने पर आती है डमरू की आवाज

भारत के मंदिर उसकी अमूल्य धरोहर हैं। यहाँ गलियों में, चौराहों पर, नगर-कस्बों में, गाँवों में कई ऐसे मंदिर हैं जो उस क्षेत्र के लोगों के लिए इसलिए विशेष हैं, क्योंकि उनका एक इतिहास है और उनसे जुड़ी कहानियाँ उन लोगों के जीवन का हिस्सा बन चुकी हैं। ऐसा ही एक मंदिर हिमाचल प्रदेश के सोलन में स्थित है। यह मंदिर है जटोली शिव मंदिर। यह मंदिर भगवान शिव के कुछ सबसे ऊँचे मंदिरों में से एक है।

मान्यताएँ

सोलन स्थित जटोली शिव मंदिर के विषय में मान्यता है कि भगवान शिव ने इस स्थान पर अल्प विश्राम किया था। स्थानीय लोग मानते हैं कि भगवान शिव अपनी यात्रा के दौरान इस स्थान पर आए थे और यहाँ की प्राकृतिक सुंदरता से मोहित होकर कुछ दिनों तक रुके भी थे। वर्तमान में इस स्थान को महत्व दिलाने का श्रेय स्वामी कृष्णानन्द परमहंस को जाता है। 1950 के दशक में स्वामी कृष्णानन्द इस स्थान पर आए थे। कहा जाता है कि जटोली के लोग तब पानी की भीषण कमी से जूझ रहे थे। लोगों के इस संकट को दूर करने के लिए स्वामी कृष्णानन्द ने भगवान शिव की घोर तपस्या की और अपने त्रिशूल से प्रहार कर जमीन से पानी बाहर निकाला। तब से जटोली के लोगों को कभी पानी की कमी का सामना नहीं करना पड़ा।

इसके बाद स्वामी कृष्णानन्द ने ही जटोली के इस मंदिर के निर्माण की नींव रखी। 1974 में इस मंदिर का निर्माण शुरू हुआ। हालाँकि वर्ष 1983 में स्वामी कृष्णानन्द ने समाधि ले ली, लेकिन मंदिर का निर्माण नहीं रुका। देश-दुनिया के कोने-कोने में बसे हिंदुओं ने अपने आराध्य के इस अनूठे मंदिर के निर्माण के लिए अपना सहयोग दिया। मंदिर के निर्माण में कुल मिलाकर 39 वर्ष लगे और करोड़ों रुपए खर्च हुए। मंदिर के कोने में ही स्वामी कृष्णानन्द की एक गुफा है। इस गुफा में भी एक शिवलिंग स्थापित है।

मंदिर की ऊँचाई लगभग 111 फुट है। हाल ही में इस मंदिर में 11 फुट का एक स्वर्ण कलश चढ़ाया गया जिसके कारण मंदिर की कुल ऊँचाई 122 फुट हो गई है। यह उत्तर भारत का सबसे ऊँचा और विश्व के कुछ सबसे ऊँचे शिव मंदिर में से एक है। मंदिर के चारों तरफ भगवान शिव और माता पार्वती समेत विभिन्न देवी-देवताओं की मूर्तियाँ स्थापित हैं। मंदिर के गर्भगृह में स्फटिक मणि से निर्मित शिवलिंग स्थापित किया गया है। मंदिर की विशेषता है, निर्माण में लगाए गए पत्थर। इन पत्थरों को छूने या थपथपाने से डमरू की आवाज आती है। भले ही इस मंदिर का निर्माण आज से कुछ 45-50 साल पहले ही हुआ हो, लेकिन इस स्थान का महत्व पौराणिक है और स्वामी कृष्णानन्द परमहंस ने इसी महत्व को देखते हुए भगवान शिव की तपस्या के लिए इस स्थान को चुना।

कैसे पहुँचे?

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख शहरों में से एक सोलन का नजदीकी हवाईअड्डा शिमला में स्थित है, जो यहाँ से लगभग 45 किमी की दूरी पर है। हिमाचल प्रदेश सरकार निजी सार्वजनिक भागीदारी (PPP) के तहत सोलन में ही 1,000 करोड़ की लागत से राज्य का पहला अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डा बनाने जा रही है। हालाँकि, सोलन का नजदीकी प्रमुख हवाईअड्डा चंडीगढ़ है। रेलमार्ग से सोलन तक पहुँचने के साधन फिलहाल सीमित हैं। सोलन विश्व प्रसिद्ध कालका-शिमला नैरो गेज लाइन पर स्थित है। कालका जंक्शन के माध्यम से सोलन, दिल्ली, देहरादून, कोलकाता और अन्य शहरों से जुड़ा हुआ है। राष्ट्रीय राजमार्ग 22 प्रमुख सड़क मार्ग है, जो सोलन से होकर गुजरता है। यह एक डिफेंस रोड है जो दिल्ली, अंबाला, चंडीगढ़ और देहरादून को चीन की सीमा से जोड़ती है। शिमला से सोलन की सड़क मार्ग से दूरी लगभग 48 किमी और चंडीगढ़ से लगभग 68 किमी है।

Updated: October 1, 2021 — 5:44 am

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *