’16 लाख रुपए सैलरी+ग्रेच्युटी दो वरना सूखे का श्राप…’ – गुजरात का रिटायर्ड कर्मचारी खुद को बोल रहा कल्कि अवतार

गुजरात सरकार के पूर्व कर्मचारी रमेशचंद्र फेफर अपने बयानों के कारण एक बार फिर से चर्चा में हैं। वह खुद को भगवान विष्णु के दसवें अवतार ‘कल्कि’ मानते हैं। इस बार फेफर राज्य सरकार को 16 लाख रुपए वेतन और ग्रेच्युटी नहीं देने पर राज्य को सूखे का श्राप देने की धमकी देने के लिए चर्चा में हैं। यह सब वो तब कर रहे हैं जब वह ऑफिस नहीं जा रहे हैं।

News18 गुजराती की रिपोर्ट के मुताबिक, राजकोट के रहने वाले फेफर को ऑफिस नहीं जाने के कारण और उनके दावों के चलते विभाग ने उन्हें प्री मेच्योर रिटायरमेंट दे दिया था। ऐसे में वह ऑफिस तो जा नहीं रहे हैं, लेकिन विभाग से उन्होंने अपनी पूरी सैलरी माँगी है। जल विभाग के पूर्व कर्मचारी ने धमकी दी है कि अगर उन्हें सैलरी और ग्रैच्युटी नहीं दी जाती है तो वे राज्य को सूखे का श्राप दे देंगे।

रिपोर्ट्स में कहा गया है कि 1 जुलाई, 2021 को फेफर ने जल संसाधन विभाग के सचिव को पत्र लिखकर दावा किया था कि ‘सरकार में बैठे राक्षस’ उनका वेतन और ग्रेच्युटी रोक कर उन्हें परेशान कर रहे हैं। ‘उत्पीड़न’ के कारण वह अब गुजरात में सूखा लाएँगे, क्योंकि वह ‘भगवान विष्णु के दसवें अवतार’ हैं। रमेशचन्द्र फेफर ने कथित तौर पर यह भी दावा किया है कि पिछले दो वर्षों में भारत में उनकी दिव्य उपस्थिति के कारण ही अच्छी वर्षा हुई है।

वैश्विक सोच को बदलने की कर चुके हैं बात

जल विभाग के पूर्व कर्मचारी फेफर ने वर्ष 2018 में ऑफिस नहीं जाने के कारणों को लेकर कहा था कि वह कार्यालय इसलिए नहीं जा सकते हैं, क्योंकि वो ‘वैश्विक विवेक को बदलने’ के लिए ‘तपस्या’ कर रहे थे। इसके बाद जल विभाग ने फेफर को एक कारण बताओ नोटिस भी जारी किया था। इसके जवाब में उन्होंने कहा था, “भले ही आप विश्वास न करें, मैं वास्तव में भगवान विष्णु का दसवाँ अवतार हूँ और आने वाले दिनों में मैं इसे साबित करूँगा। मार्च 2010 में जब मैं ऑफिस में था, उसी दौरान मुझे एहसास हुआ कि मैं कल्कि अवतार हूँ। तब से मेरे पास दैवीय शक्तियाँ हैं।” फेफर ने 2018 में केवल 16 दिनों के लिए ऑफिस में काम किया था।

Updated: September 30, 2021 — 6:59 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *