By | May 22, 2020

वेर्तमान मोदी सरकार ने एक अभियान चलाया है जिसे आत्मनिर्भर भारत अभियान नाम दिया गया है जिसके तहत मधुमाखी पालन को ओर अधिक ध्यान मे रखते हुये 500 करोड़ रुपए का पेकेज जारी किया है

वर्तमान टाइम मे विस्व को एक अद्रस्य वाइरस ने घेर रखा है भारत सरकार ने एक अभियान्न चलाया है जिसे सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान नाम दिया गया है जिसके तहत भारत का प्र्तेक नागरिक आत्मनिर्भर बने इस अभियान के अंतर्गत मधुमाखी पालन को सरकार ओर अधिक बढ़ावा दे रही है जिसके तहत 500 करोड़ रुपए का पेकेज जारी किया है आत्म निर्भर अभियान के तहत 500 करोड़ रुपए का एलन वित मंत्री ने किया है

आत्मनिर्भर भारत अभियान

देश को एक अदृस्य वाइरस ने घेर रखा है जिसका नाम है कोरोने वाइरस कोरोना वाइरस की वजह से पूरे देस मे लोक डाउन चालू है यानि पूरा देख बंद है जिसके कारण देश की अर्थ व्यवस्था काफी कमजोर होती नजर आ रही है सरकार अर्थव्यवस्था को सुधारने ओर उसे पटरी पर लाने के अपने परियास कर रही है हाल ही मे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 12 मई 2020 को 20 लाख करोड़ रुपए के आर्थिक पेकेज की घोसना की है जो की देश की जीडीपी के 10% बराबर है

आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मधुमाखी पालन को ओर अधिक बढ़ावा देने के लिए 500 करोड़ रुपए का पेकेज

इस राहत पेकेज की घोसना देश के वित मंत्री श्री निर्मला सीता रमन ने की है जिसके तहत लोक डाउन की वजह से जिन वर्गो को नुकसान हुआ है उनके नुकसान की भरपाई करने के लिए उन तक लाभ पहुंचाया जाएगा सरकार ने आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत किसानो को मधुमाखी पालन के लिए प्रेरित किया है सरकार का ये मानना है की येदी किसान मधुमाखी पालन करते है तो इससे उनकी आय मे काफी इजाफा होगा ओर किसान भी अपनी आय बड़ा सकते है

सरकार ने मधुमाखी पालन को दिया बढ़ावा

सरकार के आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मधुमाखी पालन से होने वाले फायदे निम्न प्रकार है

  • अगर यह योजना सुरू हो जाती है तो इस से देश की महिलाओ को रोजगार मिलेगा
  • जो मधुमाखी पालन पहले से करते है उनका इस अभियान से फाइदा होगा
  • ट्रेसबिलिटी सिस्टम का विकाश होगा
  • कोरोना वाइरस के कारण किसानो की आर्थिक स्थिति काफी कमजोर हो गयी है जिसे इस अभियान से उनकी आय बड़ेगी
  • अगर किसान मधुमाखी पालन करता है तो इस से वह अछि गुनवाता वाला सहद प्राप्त कर सकता है जिस से नकली सहद से बचा जा सकता है
  • सरकार के अनुसार देश के 2 लाख किसानो को इसका लाभ दिया जाएगा

मधुमाखी पालन के लिए 500 करोड़ रुपए के पेकेज जारी किया गया

मधुमाखी पालना के कई उधेस्य हो सकते है जो किसान पहले से मधुमाखी पालन कर रहे है उनको इस से काफी फाइदा हो सकता है इस लोक डाउन मे जो सरकार की तरफ से पेकेज जारी किया गया है उनमे से 500 करोड़ रुपए का पेकेज मधुमाखी पालन के ख्छेत्र मे किया गया है सरकार का मानना है की देश के अधिकतर गवों मे जनसंख्या अधिक है जिनके पास रोजगार के साधन नही है एसे लोग मधुमाखी पालन करके अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते है

हमारा अप्प डाउनलोड करेक्लिक करे
ताजा समाचार हिंदीक्लिक करे
सभी सरकारी योजनाक्लिक करे
किसान योजनाक्लिक करे

One Reply to “आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत मधुमाखी पालन को ओर अधिक बढ़ावा देने के लिए 500 करोड़ रुपए का पेकेज”

Leave a Reply

Your email address will not be published.