By | May 18, 2020
भीख मांगने वाले शख्स ने पेश की मिसाल, कोविड-19 के खिलाफ दान किए 10,000 रुपये

कोरोना वायरस और लॉकडाउन के बीच आज हम आपको एक ऐसी खबर के बारे में बताने जा रहे हैं, जो आपके चेहरे पर मुस्कान ला देगी। इस खबर से न सिर्फ आपको सुकून मिलेगा बल्कि यह खबर महामारी के इस दौर में एक मिसाल भी पेश कर रही है। दरअसल तमिलनाडु के मदुरै में एक भिक्षा मांगने वाले पूलपांड्या नाम के व्यक्ति ने कोविड-19 राज्य कोष में 10,000 रुपये का दान दिया है।

Covid-19

पूलपांड्या ने सोमवार को जिला कलेक्टर टीजी विनय को राज्य कोविड-19 राहत कोष के लिए 10,000 रुपये दान दिए। इस दौरान उन्होंने कहा, “मैं इस राशि को शिक्षा निधि को देने वाला था, लेकिन अब मैंने इसे राहत कोष में दान कर दिया है क्योंकि कोरोना वायरस एक बहुत बड़ी चुनौती है।”
दरअसल खबर लिखने तक भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या 96,169 है। इस खतरनाक बीमारी से देशभर में अबतक 3029 लोगों की मौत हो चुकी है। हालांकि, इस दौरान 36,824 लोग इस बीमारी से पूरी तरह से ठीक होकर अपने घरों को वापस भी जा चुके हैं।

लॉकडाउन 4.0: अगर आपके पास है कार या बाइक तो ये हैं ड्राइविंग के नियम और शर्तें, यात्री वाहनों के लिए दिशानिर्देश जारी

18 मई से देशव्यापी लॉकडाउन का चौथा चरण शुरू हो गया है। अब केंद्र सरकार ने व्यक्तिगत और सार्वजनिक परिवहन वाहनों के इस्तेमाल पर लागू कई प्रतिबंधों को हटाने का एलान किया है।

गृह मंत्रालय ने नए दिशानिर्देश जारी किए हैं जो अब निजी यात्री वाहनों के साथ-साथ बसों को एक राज्य से दूसरे राज्यों में जाने की अनुमति देते हैं। खास बात यह है कि यह महत्वपूर्ण छूट तीनों जोन- रेड, ऑरेंज और ग्रीन में मान्य होंगे। हालांकि ये नियम देश में कहीं भी कंटेनमेंट जोन क्षेत्रों में रहने वालों पर लागू नहीं होंगे।

Covid-19

तीनों जोन में ऑटो रिक्शा, टैक्सी और बसों को चलाने की अनुमति दी गई है। अब तक सिर्फ
टैक्सी को ही ग्रीन और ऑरेंज जोन में चलने की अनुमति थी। हालांकि यह मुद्दे पर प्रतिबंध जारी है
कि एक समय में कितने यात्री एक वाहन में यात्रा कर सकते हैं। सभी जोन में ऑटो और टैक्सी में
सिर्फ 1 यात्री को ही यात्रा की अनुमति है, जबकि निजी वाहन में चालक के अलावा 2 यात्री जा
सकते हैं। रेड जोन में दोपहिया वाहनों पर चालक के पीछे दूसरी सवारी को बैठने की अनुमति नहीं है।

लॉकडाउन 3.0 की तरह ही इन सभी गतिविधियों के लिए प्रतिदिन केवल सुबह 7 बजे से शाम 7
बजे के बीच ही अनुमति है। शाम 7 बजे के बाद केवल आवश्यक सेवाओं और वैध कर्फ्यू पास
धारक लोगों को ही कहीं आने जाने की अनुमति है। 65 वर्ष से अधिक और 10 वर्ष से कम आयु
वाले और गर्भवती महिलाएं अभी भी सभी क्षेत्रों में हर समय बाहर नहीं निकल सकते हैं।

Covid-19

इन नियमों का यह भी मतलब है कि आपके पड़ोस के गैराज के साथ-साथ गाड़ियों के सर्विस सेंटर
भी खुल सकते हैं, बशर्ते वे स्वच्छता और सामाजिक दूरी के सभी दिशानिर्देशों का पालन करें।
हालांकि केंद्र ने यह भी कहा है कि राज्य उनके क्षेत्रों में मौजूदा स्थितियों के अनुसार इन नियमों को
बदल सकते हैं

हमारा अप्प डाउनलोड करेक्लिक करे
ताजा समाचार हिंदीक्लिक करे
सभी सरकारी योजनाक्लिक करे
किसान योजनाक्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.