IAS ऑफिसर रणबीर शर्मा ने मोबाइल तोड़ा, थप्पड़ मारा… अब माँगी माफी: घूस लेते इसी ऑफिसर को ACB ने पकड़ा था

छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले में लागू लॉकडाउन के दौरान कलेक्टर ने एक युवक को थप्पड़ मारा, फोन तोड़ दिया और पुलिस ने उसकी पिटाई कर दी। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद कलेक्टर ने अपने व्यवहार के लिए माफी माँगी है।

सूरजपुर जिले के पुलिस अधिकारियों ने बताया कि युवक की पहचान अमन मित्तल (23) के रूप में हुई है। उसके खिलाफ लॉकडाउन के कथित उल्लंघन के लिए मामला दर्ज किया गया है। वीडियो में कलेक्टर एक युवक को थप्पड़ मारते और पुलिस वालों से पिटवाते नजर आ रहे हैं। कलेक्टर ने वीडियो रिकॉर्डिंग के संदेह में युवक का मोबाइल भी पटक कर तोड़ दिया। इसके वायरल होने के बाद सोशल मीडिया पर लोग उनके खिलाफ एफआईआर से लेकर उन्हें सस्पेंड तक करने की माँग कर रहे हैं।

घटना शनिवार (मई 22, 2021) दोपहर की है, जब कलेक्टर लॉकडाउन का पालन कराने खुद गश्त पर निकले थे। इसी दौरान उनकी मुलाकात एक युवक से हुई। कलेक्टर ने उससे कुछ पूछा और फिर जाने दिया। वे खुद भी अपनी कार की ओर बढ़ने लगे। तभी उन्हें कुछ अंदेशा हुआ और घूम कर तेजी से युवक के पास पहुँचे। उसका मोबाइल माँगा और उसे सड़क पर पटक दिया। फिर युवक को एक जोरदार थप्पड़ लगाया।

वीडियो में एक युवक हाथ में एक पर्ची पकड़ा हुआ है और वह कलेक्टर को दिखाने की कोशिश कर रहा है। तभी वह मोबाइल पर उन्हें कुछ दिखाता है। यह देखते ही कलेक्टर रणबीर शर्मा उसका फोन ज़ोर से जमीन पर दे मारते हैं और युवक को एक तमाचा जड़ देते हैं। इससे पहले कि युवक कुछ बोल पाता कलेक्टर जवानों को उसे मारने का आदेश देते हैं और जवान एक के बाद एक लड़के पर लाठियाँ बरसाने लगते हैं। इसके बाद कलेक्टर यह कहते हुए गाड़ी में जाकर बैठ गए कि इसके खिलाफ एफआईआर कराओ।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक युवक अपने पिता और माता के लिए दवाई लेने मेडिकल स्टोर के लिए निकला था। इसी दौरान भैयाथान चौक के पास जिला कलेक्टर रणवीर शर्मा ने उसे रुकवा लिया। युवक ने बताया कि वह दवाई लेने जा रहा है। इसकी पुष्टि करने के लिए उसने दवाई की पर्ची भी दिखाई लेकिन कलेक्टर ने उसकी नहीं सुनी और चाँटा मार दिया।

वीडियो के वायरल होने के बाद कलेक्टर रणबीर शर्मा ने अपने बयान में कहा, “उसने कहा कि वह टीकाकरण के लिए बाहर गया था, लेकिन उनके पास कोई उचित दस्तावेज नहीं था। बाद में उसने कहा कि वह अपनी दादी से मिलने जा रहा है। जब उसने दुर्व्यवहार किया तो मैंने गुस्से में उसे थप्पड़ मार दिया। वह 23-24 साल का था, 13 साल का नहीं। मुझे खेद है और अपने व्यवहार के लिए क्षमा चाहता हूँ।”

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कलेक्टर शर्मा पर साल 2015 में रिश्वतखोरी का आरोप भी लग चुका है। उन्हें एक पटवारी से 10 हजार रुपए रिश्वत लेने के आरोप में एंटी करप्शन ब्यूरो ने गिरफ्तार किया था। शर्मा उस समय भानुप्रतापपुर में सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट थे। उस समय शर्मा का ट्रांसफर भी किया गया था।

Updated: November 26, 2021 — 5:45 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *