By | May 1, 2020
मजदूर दिवस,एसे हुई थी मजदुर दिवस कि स्थापना Labour Day 2020

आज 1 मई को मजदुर दिवस मनाया जाता है क्या आप जानते है आपके बंगले कि रोनक लाने वाले मजदुरो के लिए भी एक दिवस कि स्थानी हुई है कब और कैसे (मजदुर दिवस कि स्थापना)

मजदुर दिवस कि स्थापना

1 मई को अंतराष्ट्रीय स्तर पर Labour Day (मजदुर दिवस मनाया जाता है) वे मजदुर जो इतनी ऊँची ऊँची बिल्डिंग व बंगले बनाते है फिर फुटपात पर सोते है फिर भी कोई सिकायत नहीं आज हमें भी इन मजदूरो को कम से कम धन्यवाद देना चाहिय क्यों कि भले ही किसी के पास पैसे हो लेकिन एसे इन्सान जो महंत करके भी कभी भूका सो जाता है पर किसी से सिकायत नहीं करता वो है मजदुर

एक मई को दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस

एक मई को दुनिया भर में अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस (International Labour Day 2019) मनाया जाता है।
मजदूर दिवस या लेबर डे मनाने की शुरुआत साल 1886 में संयुक्त राज्य अमेरिका से शुरू हुई थी
मजदूर दिवस पर दुनिया के 80 से अधिक देशों में राष्ट्रीय अवकाश (नेशनल हॉलिडे) होता है, इसमें भारत भी शामिल हैं।
इस दिन को मजूदरों के सम्मान, उनकी एकता और उनके हक के समर्थन में मनाया जाता है
भारत में मजदूर दिवस की शुरुआत चेन्नई में 1 मई 1923 में हुई थी

मजदुर दिवस कि स्थापना

लेबर किसान पार्टी ऑफ हिन्दुस्तान के नेता और कामरेड सिंगारावेलु चेट्यार के नेतृत्व में मद्रास में
पहली बार मजूदर दिवस मनाया गया। चेट्यार के नेतृत्व में मद्रास हाईकोर्ट सामने बड़ा प्रदर्शन किया
गया और इस दिन को पूरे भारत में “मजदूर दिवस” के रूप में मनाने का संकल्प लिया। साथ ही छुट्टी
का ऐलान किया था।

मजदूर दिवस की शुरुआत एक मई 1886 को संयुक्त राज्य अमेरिका में मजूदरों के आंदोलन से हुई थी।
अमेरिका में लाखों मजदूर काम के 8 घंटे निर्धारित करने के लिए की मांग को लेकर हड़ताल पर चले गए थे। इस दिन लाखों अमेरिकी मजदूर शोषण के
खिलाफ सड़कों पर उतर आए।

GOVT SCHEMEक्लिक करे
ताजा समाचार हिंदीक्लिक करे
किसान योजनाक्लिक

Leave a Reply

Your email address will not be published.