By | June 8, 2020
लॉकडाउन के तहत घर लोटे प्रवासी मजदूरो कि और सर्कार ध्यान तुरंत मिलना चाहिय रोजगार और योजनाओ का लाभ

लॉकडाउन के तहत घर लोटे प्रवासी मजदूरो कि और सर्कार ध्यान तुरंत मिलना चाहिय रोजगार और योजनाओ का लाभ

लॉकडाउन के तहत घर लोटे प्रवासी मजदूरो कि और सर्कार ध्यान तुरंत मिलना चाहिय रोजगार और योजनाओ का लाभ

भारत सरकार ने इसे मजदूरो जो दुसरे राज्यों राज्यों से घर लोटे है उनके लिए एक नया प्लान
तयार कर रही है जिसमे इन्हें केंद्र की सभी योजना का लाभ जैसे आवास योजना किसान
कल्याण योजना, नरेगा योजना, जन गरीब योजना आदि के साथ इन्हें जल्द रोजगार के
अवसर उपलब्ध कराने पर ध्यान केन्द्रित कर रही है कोरोना लॉकडाउन के तहत सबसे ज्यदा
प्रवासी मजूदरो पर असर हुआ जिनका रोजगार छीन जाने के साथ रोजी रोटी का साधन खत्म हो चूका है पीएमओ ने सभी मंत्रालयों से दो हफ़्तों के भीतर प्रस्ताव मांगे हैं. देश भर के ऐसे
116 जिलों की पहचान की हैं जहां सबसे अधिक श्रमिक वापस आए हैं.

ये जिले 6 राज्यों  बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, झारखंड, ओड़िसा और राजस्थान में हैं. केंद्र सरकार की तरफ से चयनित 116 जिलों में सबसे ज्यादा 32 जिले बिहार के हैं. उसके बाद उत्तर प्रदेश के 31 जिले, मध्यप्रदेश के 24, राजस्थान के 22 जिले, झारखंड के 3 और ओड़िसा के 4 जिले हैं. इन जिलों के प्रवासी मजदूर लॉकडाउन के कारण रोजी-रोटी और रोजगार गंवा चुके हैं. 

यह भी पढ़े