Rajiv Gandhi Nyay Yojana: अन्न्दाता किसानों के बैंक खाते में जमा हुए 63 करोड़ 15 लाख

Publish Date: | Mon, 22 Mar 2021 06:20 AM (IST)

बिलासपुर।Rajiv Gandhi Nyay Yojana: वर्ष 2019-20 में समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले बिलासपुर जिले के एक लाख एक हजार किसानों को राजीव गांधी न्याय योजना की अंतिम किस्त की राशि रविवार को जमा कराई दी गई है। इन किसानों के बैंक खाते में 63 करोड़ 15 लाख स्र्पये जमा कराए गए। रविवार अवकाश होने के बाद भी किसानों के खाते में राशि जमा कराई गई।

बीते वर्ष समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले जिले के एक लाख एक हजार किसानों को अंतिम किस्त की राशि रविवार को मिल गई। किसानों के लिए राहत वाली बात यह है कि वर्तमान सीजन रबी फसल का है। गेहूं की फसल पककर तैयार है। अब कटाई और मिसाई का दौर चलेगा।

किसानों को गेहूं कटाई और थ्रेसर के जरिए मिसाई के लिए राशि मिल गई है। रबी फसल में धान की खेती करने वाले किसानों के लिए यह राहत से कम नहीं है। दवा का छिड़काव सहित अन्य जरूरी कार्य में खर्च करने के लिए राशि मिल गई है।

चार समान किस्तों में जारी हुई राशि

राज्य शासन ने समर्थन मूल्य पर धान बेचने वाले किसानों को राजीव गांधी न्याय योजना के तहत राशि देने की घोषणा की है। इसके लिए चार समान किस्तों का निर्धारण किया है। 63 करोड़ 15 लाख स्र्पये की राशि जिले के एक लाख एक हजार किसानों के बैंक खाते में चार किस्तों में जमा करा दी गई है।

अब वर्ष 2020-21 की बारी

वर्ष 2020-21 में जिले के किसान जिन्होंने समर्थन मूल्य पर धान बेचा है उन्हें राजीव गांधी न्याय योजना की पहली किस्त का इंतजार है। माना जा रहा है कि चार महीने बाद ही इस वर्ष धान खरीदी के एवज में राज्य शासन द्वारा न्याय योजना की पहली किस्त किसानों के बैंक खाते में जमा कराएगी। इस वर्ष जिले के एक लाख 25 हजार किसानों ने समर्थन मूल्य पर धान बेचने पंजीयन कराया था। इनमें से आठ हजार किसान धान बेचने से वंचित रह गए थे।

Posted By: anil.kurrey

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 

Show More Tags

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *