By | May 28, 2020

सरकार 7.75 प्र्तिसत बचत बॉन्ड योजना को वापिस लेगी जेसा की आप जानते है को देश मे कोरोना वाइरस फेला हुआ है जिसके कारण देश मे लोक डाउन लगा हुआ है जिसके कारण देश मे लोगो को घर से भाहर निकलना मना होता है

सरकार के इन बॉन्ड को भारत सरकार के बॉन्ड या आरबीआई बॉन्ड के नाम से जाना जाता है ब्र्हस्प्तिवर को सरकार ने 7.75 % बचत बॉन्ड योजना को बैंकिंग कारोबार समाप्त होने से पहले वापिस लेने का फेसला लिया है घटती ब्याजदारों को ध्याना मे रखते हुये सरकार ने यह निरण्य लिया है

देश मे कोरोना के कारण लोकडाउन लगा हुआ है जिसके कारण ब्याज डरे घाट रही है जिसके कारण सरकार ने यह निरण्य लिया है सरकार के द्वारा चलाये गए ये बॉन्ड सामान्य तौर पर आरबीआई बॉन्ड या भारत सरकार के बॉन्ड के नाम से जाना जाता है

सरकार 7.75 % बचत बॉन्ड योजना को लेगी वापिस

यह बॉन्ड खुदरा निवेशको के बीच काफी पसंद किया जाता है जो निवेशक इसमे निवेश करते है वो अपनी मूल राशि की सुरकशया के साथ साथ नियमित आय को ध्यान मे रखते हुये निवेश करते है इन बॉन्ड मे प्र्वशी निवेश के पात्र नही है जेसा की आप जानते है की देश को एक अदृस्य वाइरस ने जकड़ के रखा है जिसके कारण देश मे लोक डाउन लगा हुआ है जिसके कारण देश के सारे कम थप पड़ा हुआ है सरकार को लोक डाउन के कारण ब्याज डरे घटने के कारण इसने कुछ बदलाव करने की जरूरत है

रिजर्व बैंक ने बुधवार को अधिसूचना जारी की है जिसके अनुसार भारत सरकार एतत द्वारा यह अधिसूचित करती है की 7.75% बचत ( कर योग्य ) बॉन्ड 2018 ब्र्हस्पतिवर को 28 मई 2020 को बैंकिंग कार्यसमाप्त होने के टाइम निवेश के लिए उपलब्ध नहीं होने

देश के रिजर्व बैंक ने अधिसूचना जारी करते हुये यह कहा है की 7.75% वाले जो बचत वाले कर योग्य बॉन्ड है वो 2018 को अभिदान पाने के लिए बंद कर दिया है पहले इन बॉन्ड मे मिलने वाले ब्याज दर कर योग्य होता है सरकार के इन बॉन्ड पर 100 रुपए के अंकित मूल्य पर निवेश होता है

सरकार 7.75 % बचत बॉन्ड योजना को लेगी वापिस ,जाने क्या है वजह

इन बॉन्ड मे न्यूनतम निवेश सीमा है वो 1 हजार रुपए है सरकार के ये बॉन्ड योजना के मुताबिक सात साल के होते है इनकी अवधि सात साल होती है यह संकट की घड़ी चल रही है या फिर एसे कहे की कोरोना संकट किघड़ी चल रही है इस टाइम पर भी कर्ज पर ब्याज दरो मे लगातार कटोती की जा रही है भारत के रिजर्व बैंक ने हाल ही मे अल्पा अवधि ब्याज दर रेपों मे कटोती की है जिससे चार प्रेसेंट की एटिहासिक निचले स्तर पर ला दिया है इसको ध्यान मे रखते हुये 7.75 % वाले बॉन्ड की ब्याज दर की लागत ऊंची बेठ सक्ति है

कोरोरना के कारण देश मे लोक डाउन लगा हुआ है जिससे किसी भी नागरिक को घर से भाहर निकलना माना है इसमे सरकार के द्वारा लोगो की सहायता के लिए अनेक परियास किए जा रहे है जिससे सरकार के द्वारा चलाये गए बॉन्ड मे रिजर्व बैंक ने ब्याज दर मे कटोती की है जिस सी काफी फाइदा हो सकता है

लेटेस्ट योजनाक्लिक करे
ताजा समाचार हिंदीक्लिक करे
सभी सरकारी योजनाक्लिक करे
किसान योजनाक्लिक कर

Leave a Reply

Your email address will not be published.