By | May 1, 2020
Coronavirus LIVE Update कोरोना के मामलों की संख्या 35 हजार पार, अब तक 1147 की मौत

कोरोनावायरस से संक्रमित लोगो कि संख्या दिन प्रति दिन बढती जा रही है एसे मेंदेश भर
अभी तक Corona Virus के मरीजो कि संख्या 35000 पार हो चुकी है

Coronavirus LIVE Update कोरोना के मामलों की संख्या 35 हजार पार, अब तक 1147 की मौत

Corona Live Update indian 2020

देशभर में कोरोना वायरस की चपेट में आकर मरने वालों की संख्या बढ़कर 1147 हो गई है। स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक शुक्रवार सुबह तक संक्रमित मामलों की संख्या बढ़कर 35043 पर पहुंच गई बीते  24 घंटों में कोरोना संक्रमण से 73 लोगों की मौत दर्ज की गई है। शुक्रवार को मरीजों की संख्या में 2,038 का इजाफा हुआ है

भारत में अभी तक कोरोना संक्रमित लोगो कि संख्या 35043 है जिसमे 1147 डेथ हो चुकी है और 8889 लोगो को सही किया जा
चूका है अभी सक्रीय केस 25007 है जो बढती संख्या के संकेत है

कंफर्म मामलेकुल मौतेंकुल ठीक हो चुकेसक्रिय मामले
3504311478,88925,007

भारत में कोविड-19 टेस्ट कराने के लिए क्या करना चाहिए?

आप केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के 24X7 हेल्पलाइन नंबर: 01123978046 पर कॉल करें। आप अपने प्रश्नों को
[email protected] पर भी मेल कर सकते हैं। उसके कुछ समय बाद आपके पास जिला निगरानी अधिकारी व टीम आएगी
और यदि संक्रमण की आशंका अधिक है, तो आपको टेस्ट के लिए किसी बड़े अस्पताल में ले जाया जा सकता है
संदिग्ध मामलों की जांच हेतु सरकार ने अलग-अलग एम्बुलेंस रखी हैं। संदिग्ध मामलों में पब्लिक ट्रांसपोर्ट के इस्तेमाल की सलाह
नहीं दी जाती है।

कोरोना वायरस का टेस्ट कैसे किया जाता है?

COVID -19 (Corona Virus) के टेस्ट में किसी प्रकार का ब्लड टेस्ट नहीं होता है। कोविड-19 टेस्ट में गले की खराश या फिर नाक की एक स्वैब के जरिए जांच की जाती है।

सैंपल लेने के बाद, नोडल अस्पतालों में तैनात डॉक्टर के जरीय जांच कि जाती है  कि क्या व्यक्ति को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता है या नहीं?
नहीं तो आपको घर पर ही आइसोलेट रहने के लिए कहा जा सकता है। यदि टेस्ट पॉजिटिव आते हैं, तो ठीक होने तक संक्रमित व्यक्ति को कम से कम 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन यानी एकांत में रहने की आवश्यकता हो सकती है।

यदि आप COVID -19 से संक्रमित होते हैं और फिर ठीक हो जाते हैं,

फिलहाल अभी तक इसकी जानकारी नहीं है। चीन से मिली कुछ रिपोर्टों में कहा गया है

कि कुछ लोगों को COVID-19 था, जिसके बाद वो ठीक तो हो गए लेकिन फिर से बीमार पड़ गए। यह अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया
है कि एक व्यक्ति ठीक होने के बाद फिर से बीमार पड़ जाता है, या उसे एक नया संक्रमण हो जाता है या फिर एक ऐसी स्थिति जहां
व्यक्ति पूरी तरह से ठीक नहीं हुआ है। सिएटल के फ्रेड हचिंसन कैंसर रिसर्च सेंटर (Fred Hutchinson Cancer Research
Center – Seattle) के वैज्ञानिकों का कहना है कि हर 15 दिन में वायरस के 30,000 अक्षरों का आनुवंशिक कोड बदल जाता है।
इसलिए यह अभी तक नहीं पता चल पाया है कि बीमार लोग वायरस से दोबारा
किस कारण से संक्रमित हो सकते हैं।

मास्क पहनना चाहिए?

डब्लूएचओ के अनुसार, आप केवल एक मास्क पहनें यदि आपको COVID-19 का पता चला है

या फिर आप किसी COVID​​-19 के रोगी की देखरेख कर रहे हैं। डिस्पोजेबल फेस मास्क का उपयोग केवल एक बार किया जा
सकता है।
खांसने या छींकने पर की स्थिति में ही मास्क पहनें। मास्क केवल तभी सुरक्षा दे सकते हैं, जब हाथों को एल्कोहल-बेस्ड
हैंड सैनिटाईजर से साफ करके मास्क का इस्तेमाल किया जा रहा हो।

मास्क को सही तरीके से इस्तेमाल करने के बारे में पूरी जानकारी रखें।

लेटेस्ट योजनाक्लिक करे
ताजा समाचार हिंदीक्लिक करे
सभी सरकारी योजनाक्लिक करे
किसान योजनाक्लिक करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.