UP Bhulekh: यूपी भूलेख ऑनलाइन upbhulekh.gov.in खसरा खतौनी नकल

यूपी भूलेख ऑनलाइन देखें | upbhulekh.gov.in Online Portal | उत्तर प्रदेश भूलेख ऑनलाइन खतौनी नकल | Uttar Pradesh Bhulekh Nakal | UP Bhulekh Khasra Khatauni | Uttar Pradesh Bhulekh Online Land Records Verification | UP Bhulekh Khasra Khatoni Verification

उत्तर प्रदेश भूलेख से जुडी सभी जानकारी अब ऑनलाइन कर दी गयी है भूलेख का मतलब है कि भूमि से सम्बंधित लिखित रूप से जानकारी | उत्तर प्रदेश सरकार ने राज्य के लोगो की ज़मीनो का पूरा विवरण ऑनलाइन देखने के लिए UP Bhulekh नाम की ऑफिसियल वेबसाइट शुरू की है | राज्य के लोगो को UP Bhulekh Khasra Khatauni पोर्टल के माध्यम अपनी भूमि का पूरा विवरण मिल जायेगा | राज्य का कोई भी व्यक्ति इस सुविधा का लाभ उठा सकता है |भूलेख का सही मायने में अर्थ होता है जमीन का पूरा विवरण| इसके द्वारा आप जमीन पर मालिकाना हक जता सकते हैं |क्योंकि इसमें पकी जमीन का सारा विवरण दिया होता है |

UP Bhulekh Khasra Khatoni

इस भूलेख को अलग अलग जगहों पर कई अलग अलग नाम से पुकारा  जाता है जैसे भूमि अभिलेख ,खेत के कागज़ात ,खेत का नक्शा ,भूमि का ब्यौरा ,खाता आदि | उत्तर प्रदेश के लोगो की भूमि के रिकॉड को कम्प्यूटराइज करने के लिए UP Bhulekh पोर्टल को शुरू किया गया है जिससे लोगो को घर बैठे आसानी से अपनी भूमि का सारा विवरण प्राप्त कर सकते है | भूलेख वेब पोर्टल का निर्माण उत्तर प्रदेश के भूमि रिकार्ड (UP Bhulekh) को कंप्यूटरीकृत करने के लिए इस प्रकार किया गया है कि भू-अभिलेखों के प्रतिदिन की गतिविधियों को सुव्यवस्थित किया जा सके | आज हम आपको बतायेगे कि आप किस प्रकार अपनी भूमि से जुडी सभी जानकारी ऑनलाइन  कैसे देख सकते है |

जनसुनवाई यूपी पोर्टल

UP Bhulekh- upbhulekh.gov.in Khatoni

इस पोर्टल के माध्यम से आप अपनी ज़मीन का पूरा विवरण देखकर पूरा मालिकाना हक़ जमा सकते है क्योकि इसमें आपकी ज़मीन से जुडी सभी जानकारी बिलकुल सही दी जाती है | इस उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल की सुविधा से पहले राज्य के लोगो को अपनी भूमि कि जमाबंदी ,खसरा ,खतौनी ,भूमि का नक्शा तथा अन्य सभी जानकारी प्राप्त करने के लिए परवरखाने जाना पड़ता था और बहुत सी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था लेकिन अब राज्य के लोग घर बैठे इंटरनेट के माध्यम से उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर सरलता से ऑनलाइन देख सकते है |

यूपी वरासत अभियान

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा यूपी वरासत अभियान आरंभ किया जा रहा है। इस अभियान के अंतर्गत विवादित उत्तराधिकार को खतौनी में दर्ज किया जाएगा। यह अभियान 15 दिसंबर 2020 से लेकर 15 फरवरी 2021 तक संचालित किया जाएगा। यूपी वरासत अभियान के सफलतापूर्वक कार्यान्वयन के लिए सरकार द्वारा एक हेल्पलाइन नंबर तथा ईमेल आईडी भी जारी की गई है। इस अभियान के पूरे होने के बाद सरकार की तरफ से जिलों में टीमें भेजी जाएंगी जिसके माध्यम से यह सुनिश्चित किया जाएगा कि कहीं निर्विवाद उत्तराधिकार का कोई प्रकरण खतौनी में दर्ज होने से रह तो नहीं गया है।

यूपी वरासत अभियान हेल्पलाइन नंबर

 सरकार द्वारा इसके लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है। जो कि 0522-2620477 है।  इस हेल्पलाइन नंबर पर संपर्क कर सकते हैं। आप सीएम हेल्पलाइन जोकि 1076 है, पर भी संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा आप ईमेल के माध्यम से सभी अपनी शिकायत दर्ज करवा सकते हैं। ईमेल आईडी [email protected] है।

यूपी वरासत अभियान शेड्यूल

राजस्व/तहसील अधिकारियों द्वारा वरासत हेतु प्रार्थना पत्र लेना तथा उसे ऑनलाइन करने की प्रक्रिया 15 दिसंबर 2020 से 30 दिसंबर 2020
लेखपालों द्वारा ऑनलाइन जांच की प्रक्रिया 31 दिसंबर 2020 से 15 जनवरी 2021
राजस्व निरीक्षक द्वारा जांच का आदेश पारित करने की प्रक्रिया 16 जनवरी 2021 से 31 जनवरी 2021
यह सुनिश्चित करना कि यूपी में उत्तराधिकार विवाद का कोई भी प्रकरण दर्ज होने से शेष ना रहा हो 1 फरवरी 2021 से 7 फरवरी 2021
जिला अधिकारियों तथा अन्य अफसरों द्वारा निर्विवाद उत्तराधिकार के समस्त लंबित प्रकरणों को पूर्ण करना 8 फरवरी 2021 से 15 फरवरी 2021

Uttar Pradesh Bhulekh In Highlights

पोर्टल का नाम UP Bhulekh Land Records, Khasra Khatauni
किस ने लांच किया उत्तर प्रदेश सरकार
लाभार्थी उत्तर प्रदेश के नागरिक
उद्देश्य सभी भूमि से संबंधित रिकॉर्ड को ऑनलाइन उपलब्ध करवाना।
आधिकारिक वेबसाइट http://upbhulekh.gov.in/
भू-अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण 2 मई 2016 

भू अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण

सरकार द्वारा डिजिटलीकरण की प्रक्रिया चलाई जा रही है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने यूपी भूलेख पोर्टल का आरंभ किया था। इस पोर्टल के अंतर्गत सभी भू अभिलेखों का कंप्यूटरीकरण किया गया था। यूपी भूलेख पोर्टल का आरंभ 2 मई 2016 को किया गया था। जिसे उत्तर प्रदेश के सब तहसीलों में लागू कर दिया गया है। यूपी भूलेख पोर्टल पर उत्तर प्रदेश के सभी तहसीलों की भू अभिलेखों की जानकारी उपलब्ध है। इस पोर्टल के माध्यम से प्रतिदिन की भू अभिलेखों की गतिविधियों को व्यवस्थित किया जा सकता है। इस पोर्टल पर भू अभिलेख डाटा, भू अभिलेख के मालिक की जानकारी, भू अभिलेख की जानकारी आदि देखी जा सकती है। इस पोर्टल के माध्यम से प्रणाली में पारदर्शिता भी आएगी तथा समय और पैसे दोनों की बचत होगी।

यूपी भूलेख पोर्टल का उद्देश्य

यह कम्प्यूटराइज प्रणाली पिछली प्रणाली की तुलना में बहुत ही व्यवस्थित और पारदर्शी है जैसे उत्तर प्रदेश के लोगो को काफी फायदा होगा | अब लोग काफी से भी इंटरनेट के ज़रिये UP Bhulekh Portal  पर अपनी भूमि के रिकॉड को जान सकते है | राज्य सरकार द्वारा इस पोर्टल को शुरू करने का उद्देश्य है कि यूपी के नागरिको को अपनी ज़मीन का विवरण आसानी से मिल सके और लोगो को कही जाने की  ज़रूरत नहीं होगी |

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल के लाभ

  • उत्तर प्रदेश की इस योजना के तहत राज्य के लोग अपना खसरा नंबर और जमाबंदी नंबर डालकर अपनी भूमि का  नक्शा प्राप्त कर सकते है |
  • राज्य के लोग घर बैठे बड़ी आसानी से अपनी ज़मीन का पूरा विवरण ऑनलाइन देख सकते है |
  • इस ऑनलाइन भूलेख पोर्टल के शुरू होने से यूपी के लोगो के  समय की भी बचत होगी |
  • इस उतर प्रदेश भूलेख की जानकारी प्राप्त करने के लिए लोगो को पटवारखाने जाने की ज़रूरत नहीं होगी|

यूपी भूलेख कंपोनेंटUP Bhulekh

  • जमाबंदी/फर्द- जमाबंदी/फर्द में मुख्य भूमि रिकॉर्ड विवरण जैसे कि मालिक का नाम, कल्टीवेटर का नाम, खसरा नंबर, भूमि, क्षेत्र, फसल विवरण, पट्टा विवरण आदि शामिल होते हैं।
  • खसरा नंबर- खसरा नंबर एक प्रकार की विशिष्ट प्लॉट संख्या या सर्वे संख्या होती है जो राज्य सरकार द्वारा कृषि भूमि को दी जाती है।
  • खाता/खेवट नंबर- खाता या फिर खेवट नंबर एक प्रकार की संख्या होती है जो मालिकों के सेट को दी जाती है जिनके पास विभिन्न खसरा संख्या का भूमि का एक हिस्सा होता है।
  • खतौनी नंबर- खतौनी नंबर एक प्रकार की संख्या होती है जो कल्टीवेटर के सेट को दी जाती है जो विभिन्न खसरा संख्याओं की भूमि के हिस्से पर खेती करता है।

यूपी भूलेख जमाबंदी नक़ल खसरा खतौनी कैसे देखे UP Bhulekh

जो इच्छुक लाभार्थी अपनी ज़मीन से
जुडी सभी जानकारी प्राप्त
करना चाहते है तो वह
नीचे दिए गए तरीको
को फॉलो करे |

  • सर्वप्रथम लाभार्थी को भूलेख की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने ऑनलाइन सुविधाओं की सूची खुल जाएगी |
UP Bhulekh
  • अगर आप खसरा खतौनी की नक़ल देखना चाहते  है तो आप खसरा नक़ल के विकल्प पर क्लिक करे |इस ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपके सामने अगला पेज खुल जायेगा |
  • इस पेज पर आपको कैप्चा कोड भरने को कहा जायेगा जो नीचे आपको दिख रहा है इस कैप्चा कोड को भर दे उसके बाद सब्मिट के बटन पर क्लिक करे |
Uttar Pradesh Bhulekh
  • फिर आपके सामने नया पेज खुल जायेगा इस पेज पर आपको अपने जिला ,तहसील ,ग्राम ,खसरा /खतौनी नंबर या सर्वे नंबर या पट्टे की जानकारी देनी या चुननी होगी |
Uttar Pradesh Bhulekh
  • सबसे पहले अपने जनपद को चुने फिर तहसील चुने फिर ग्राम चुने | चुनने के बाद आपको अपनी ज़मीन की जानकारी देनी होगी | यह आप बड़ी ही आसानी से नीचे दिए गए किसी भी विकल्प से चुन सकते है जैसे अपने खसरा /गाटा संख्या द्वारा खोजे ,खाता संख्या द्वारा खोजे ,खातेदार के नाम द्वारा खोजे या नामांतरण द्वारा खोजे |
यूपी भूलेख
  • इसके बाद उचित टैब का चयन करे और फिर आवश्यक विवरण दर्ज करे |
  • इसके पश्चात् बॉक्स पर क्लिक करे | सभी जानकारी भरने के बाद कंप्यूटर स्क्रीन पर आपको भूलेख की सारी जानकारी देखने लगेगी |

यूपी भू नक्शा ऑनलाइन कैसे देखे ?

  • सबसे पहले आवेदन की यूपी भू नक्शा की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना होगा । ऑफिसियल वेबसाइट पर जाने के बाद आपके सामने होम पेज खुल जायेगा ।
  • इस होम पेज पर आपको अपने डिस्ट्रिक्ट ,तहसील , विलेज आदि का चयन करना होगा ।अब आपको चयनित क्षेत्र का नक्शा दिखाई देगा।
  • अब आप संबंधित खाताधारक का नाम देखने के लिए अपने फार्म नंबर पर क्लिक कर सकते हैं।
  • ऐसा करने के बाद, आपको खाता संख्या दिखाई देगी, अब खाता धारक का नाम चुनें जिसे आप देखना चाहते हैं।
  • आप भूमि के नक्शे का प्रिंट आउट भी ले सकते हैं।

भू नक्शा डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको भू नक्शा उत्तर प्रदेश की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा।
  • अब आपके सामने होम पेज खुल कर आएगा।
  • होम पेज पर आपको अपने जिले का चयन करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको अपने तहसील का चयन।
  • अब आपको अपने गांव का चयन करना होगा।
  • अब आपको नक्शे में अपने खेत/प्लॉट के खसरा नंबर पर क्लिक करना होगा।
  • जैसे ही आप खसरा नंबर पर क्लिक करेंगे भू नक्शा आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगा।
  • आप इस नक्शे को डाउनलोड करके प्रिंट भी कर सकते हैं।

राजस्व ग्राम खतौनी का कोड जानने की प्रक्रिया

Uttar Pradesh Bhulekh
  • इसके पश्चात आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना होगा।
  • जैसे ही आप चयन करेंगे आपके सामने राजस्व ग्राम खतौनी का कोड होगा।

भूखंड/गाटे का यूनिक कोड जानने की प्रक्रिया

भूखंड/गाटे का यूनिक कोड
  • इसके पश्चात आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना होगा।
  • जैसे ही आप चयन करेंगे आपके सामने भूखंड/गाटे का यूनिक कोड होगा।

भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति जानने की प्रक्रिया

भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त
  • इसके पश्चात आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना होगा।
  • जैसे ही आप चयन करेंगे आपके सामने भूखंड/गाटे के वाद ग्रस्त होने की स्थिति होगी।

भूखंड/गाटे के विक्रय की स्थिति जानने की प्रक्रिया

भूखंड/गाटे के विक्रय की स्थिति
  • इसके पश्चात आपको अपने जिले, तहसील तथा गांव का चयन करना होगा।
  • जैसे ही आप चयन करेंगे आपके सामने भूखंड/गाटे के विक्रिये की स्थिति होगी।

खतौनी अंश निर्धारण की नकल देखने की प्रक्रिया

खतौनी अंश निर्धारण की नकल
  • अब आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपनी डिस्ट्रिक्ट का चयन करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको अपनी तहसील का चयन करना होगा।
  • अब आपको अपने गांव का चयन करना होगा।
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें आपको अपना खसरा/गाटा संख्या दर्ज करनी होगी।
  • इसके पश्चात आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा।

उत्तर प्रदेश भूलेख मोबाइल ऐप डाउनलोड करने की प्रक्रिया

  • सर्वप्रथम आपको अपने मोबाइल फोन में गूगल प्ले स्टोर खोलना होगा।
  • अब आपको सर्च बॉक्स में यूपी भूलेख दर्ज करना होगा।
  • इसके पश्चात आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपके सामने एक सूची खुलकर आएगी।
  • आपको सूची में सबसे ऊपर वाले ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अब आपको इंस्टॉल के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • यू पी भूलेख मोबाइल ऐप आपके मोबाइल फोन में डाउनलोड हो जाएगा।

यूपी भूलेख जिलों की सूची

आप निम्नलिखित जिलों से संबंधित लैंड रिकॉर्ड यूपी भूलेख पोर्टल से चेक कर सकते हैं।

आगरा झांसी
अलीगढ़ कन्नौज
अंबेडकर नगर कानपुर देहात
अमेठी कानपुर नगर
अमरोहा कासगंज
औरैया कौशांबी
अयोध्या खेरी
आजमगढ़ कुशीनगर
बागपत ललितपुर
बहराइच लखनऊ
बलिया महोबा
बलरामपुर महाराजगंज
बांदा मणिपुर
बाराबंकी मथुरा
बरेली मऊ
बस्ती मेरठ
बिजनौर मिर्जापुर
बदायूं मुरादाबाद
बुलंदशहर मुजफ्फरनगर
चंदौली पीलीभीत
चित्रकूट प्रतापगढ़
देवरिया प्रयागराज
एटा रायबरेली
इटावा रामपुर
फर्रुखाबाद सहारनपुर
फतेहपुर संभल
फिरोजाबाद संत कबीर नगर
गौतम बुद्ध नगर संत रविदास नगर
गाजियाबाद शाहजहांपुर
गाजीपुर शामली
गोंडा श्रावस्ती
गोरखपुर सिद्धार्थनगर
हमीरपुर सीतापुर
हापुर सोनभद्रआ
हरदोई सुल्तानपुर
हाथरस उन्नाव
जलाऊं वाराणसी
जौनपुर  

कुछ महत्वपूर्ण लिंक

उत्तर प्रदेश – भूमि प्रकार सूची- Type of Lands

भूमि प्रकार भूमि प्रकार का विवरण भूमि प्रकार का कोड(गाटा यूनिक कोड का 15-16 अंक)
1 ऐसी भूमि, जिसमें सरकार अथवा गाँवसभा या अन्य स्थानीय अधिकारिकी जिसे1950 ई. के उ. प्र. ज. वि.एवं भू. व्य. अधि.की धारा 117 – क के अधीन भूमि का प्रबन्ध सौंपा गया हो , खेती करता हो । 11
1-क भूमि जो संक्रमणीय भूमिधरों केअधिकार में हो। 12
1क(क) रिक्त 13
1-ख ऐसी भूमि जो गवर्नमेंट ग्रांट एक्ट केअन्तर्गत व्यक्तियों के पास हो । 14
2 भूमि जो असंक्रमणीय भूमिधरो केअधिकार में हो। 21
3 भूमि जो असामियों के अध्यासन या अधिकारमें हो। 31
4 भूमि जो उस दशा में बिना आगम केअध्यासीनों के अधिकार में हो जब खसरेके स्तम्भ 4 में पहले से ही किसी व्यक्तिका नाम अभिलिखित न हो। 41
4-क उ.प्र. अधिकतम जोत सीमा आरोपण.अधि.अन्तर्गत अर्जित की गई अतिरिक्त भूमि -(क)जो उ.प्र.जोत सी.आ.अ.के उपबन्धो केअधीन किसी अन्तरिम अवधि के लिये किसी पट्टेदार द्वारा रखी गयी हो । 42
4-क(ख) अन्य भूमि । 43
5-1 कृषि योग्य भूमि – नई परती (परतीजदीद) 51
5-2 कृषि योग्य भूमि – पुरानी परती (परतीकदीम) 52
5-3-क कृषि योग्य बंजर – इमारती लकड़ी केवन। 53
5-3-ख कृषि योग्य बंजर – ऐसे वन जिसमें अन्यप्रकर के वृक्ष,झाडि़यों के झुन्ड,झाडि़याँ इत्यादि हों। 54
5-3-ग कृषि योग्य बंजर – स्थाई पशुचर भूमि तथा अन्य चराई की भूमियाँ । 55
5-3-घ कृषि योग्य बंजर – छप्पर छाने की घास तथा बाँस की कोठियाँ । 56
5-3-ङ अन्य कृषि योग्य बंजर भूमि। 57
5-क (क) वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – कृषि हेतु 58
5-क (ख) वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – आबादी हेतु 59
5-क (ग) वन भूमि जिस पर अनु.जन. व अन्य परम्परागत वन निवासी (वनाधिकारों की मान्यत्ाा) अधि. – 2006 के अन्तर्गत वनाधिकार दिये गये हों – सामुदायिक वनाधिकार हेतु 60
6-1 अकृषिक भूमि – जलमग्न भूमि । 61
6-2 अकृषिक भूमि – स्थल, सड़कें, रेलवे,भवन और ऐसी दूसरी भूमियां जोअकृषित उपयोगों के काम में लायी जाती हो। 62
6-3 कब्रिस्तान और श्मशान (मरघट) , ऐसेकब्रस्तानों और श्मशानों को छोड़ करजो खातेदारों की भूमि या आबादी क्षेत्र में स्थित हो। 63
6-4 जो अन्य कारणों से अकृषित हो । 64
7 भूमि जो असामियों के अघ्यासन या अधिकारमें हो। 71
9 भूमि के ऐसे अध्यासीन जिन्होने खसरे के स्तम्भ 4 में उल्लिखित व्यकि्त की सम्मतिके बिना भूमि पर अधिकार कर लिया हो। 91

शिकायत पंजीकरण करने की प्रक्रिया

शिकायत पंजीकरण
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खुल कर आएगा जिसमें पूछी गई जानकारी आपको दर्ज करनी होगी।
  • अब आपको सबमिट के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इस प्रकार आप शिकायत पंजीकरण कर पाएंगे।

शिकायत की स्थिति जानने की प्रक्रिया

शिकायत की स्थिति
  • इसके बाद आपके सामने एक नया पेज खोलकर आएगा जिसमें आपको रेफरेंस नंबर दर्ज करना होगा।
  • अब आपको सर्च के बटन पर क्लिक करना होगा।
  • शिकायत की स्थिति आपकी कंप्यूटर स्क्रीन पर होगी।

Contact Information

हमने अपने एक लेख में यूपी भूलेख से संबंधित सभी महत्वपूर्ण जानकारी आपको प्रदान कर दी है। यदि आप अभी भी किसी प्रकार की समस्या का सामना कर रहे हैं तो आप अपनी समस्या का समाधान ईमेल भेज कर सकते हैं। ईमेल आईडी [email protected] है।

  • Computer Cell Board Of Revenue Lucknow, Uttar Pradesh
  • Email Id [email protected]
  • Phone Number: 0522-2217145

Home

Updated: October 23, 2021 — 12:27 pm

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *